Top

फेसबुक ने 'ट्रेंडिंग फीचर' रोका, ब्रेकिंग न्यूज संकेतक का परीक्षण शुरू

Rishi

RishiBy Rishi

Published on 2 Jun 2018 3:39 PM GMT

फेसबुक ने ट्रेंडिंग फीचर रोका, ब्रेकिंग न्यूज संकेतक का परीक्षण शुरू
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

सैन फ्रांसिस्को : फेसबुक ने आखिरकार विवादास्पद 'ट्रेंडिंग' फीचर को खत्म करने का फैसला कर लिया है, ताकि इसकी जगह पर 'भविष्य के समाचार अनुभव' को लाया जा सके, जिसमें ब्रेकिंग न्यूज नोटिफिकेशन भी शामिल किया जा सकता है। फेसबुक के समाचार सामग्री प्रमुख ने शुक्रवार को एक बयान में कहा, "हम अगले हफ्ते से ट्रेडिंग को फेसबुक से हटा लेंगे और ट्रेंड्स एपीआई पर निर्भर सामग्री और थर्ड-पार्टी एकीकरण को भी हटा लेंगे।"

फेसबुक ने 2014 में ट्रेंडिंग फीचर पेश किया जिसका लक्ष्य लोगों को समाचार विषयों को खोजने में मदद करना था जो पूरे समुदाय में लोकप्रिय थे।

ये भी देखें : केजरीवाल के वकील पुलिस ‘उत्पीड़न’ के खिलाफ अदालत पहुंचे

इस फीचर में कई शीर्षकों का संग्रह दिखाया जाता था, लेकिन सोशल नेटवर्किं ग दिग्गज को जल्द ही राजनीतिक पूर्वाग्रह के आरोपों का सामना करना पड़ा।

एनबीसी न्यूज की रिपोर्ट में बताया गया कि शुरुआत में शीर्षक संपादकों द्वारा चुने जाते थे और परियोजना के एक पूर्व ठेकेदार ने दावा किया कि फेसबुक इस फीचर का प्रयोग उदारवादी मुद्दों को बढ़ाने और कट्टर सोच को दबाने के लिए करती थी।

फेसबुक ने बाद में संपादकों को हटा दिया और संतुलन बनाने के लिए एक एल्गोरिदम का इस्तेमाल किया, जो यह फैसला लेता था कि किन शीर्षकों को ट्रेंडिंग खंड में रखा जाए।

लेकिन एल्गोरिदम द्वारा शीर्षकों की छंटाई करने से कई फर्जी खबरें और आपत्तिजनक सामग्री भी फेसबुक के ट्रेंडिंग फीचर में जगह पाने लगी थी।

Rishi

Rishi

आशीष शर्मा ऋषि वेब और न्यूज चैनल के मंझे हुए पत्रकार हैं। आशीष को 13 साल का अनुभव है। ऋषि ने टोटल टीवी से अपनी पत्रकारीय पारी की शुरुआत की। इसके बाद वे साधना टीवी, टीवी 100 जैसे टीवी संस्थानों में रहे। इसके बाद वे न्यूज़ पोर्टल पर्दाफाश, द न्यूज़ में स्टेट हेड के पद पर कार्यरत थे। निर्मल बाबा, राधे मां और गोपाल कांडा पर की गई इनकी स्टोरीज ने काफी चर्चा बटोरी। यूपी में बसपा सरकार के दौरान हुए पैकफेड, ओटी घोटाला को ब्रेक कर चुके हैं। अफ़्रीकी खूनी हीरों से जुडी बड़ी खबर भी आम आदमी के सामने लाए हैं। यूपी की जेलों में चलने वाले माफिया गिरोहों पर की गयी उनकी ख़बर को काफी सराहा गया। कापी एडिटिंग और रिपोर्टिंग में दक्ष ऋषि अपनी विशेष शैली के लिए जाने जाते हैं।

Next Story