Top

फकीर चंद्र बनें कलयुग के श्रवण कुमार, मां की इच्‍छा पूरी करने निकले

Newstrack

NewstrackBy Newstrack

Published on 4 Aug 2016 6:25 AM GMT

फकीर चंद्र बनें कलयुग के श्रवण कुमार, मां की इच्‍छा पूरी करने निकले
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

मुरादाबाद: कलयुग में अगर आप श्रवण कुमार के दर्शन करना चाहते हैं तो बरेली के कुंवरपुर गांव में आपकी यह इच्‍छा पूरी हो जाएगी। 101 साल की बूढ़ी मां के मुरीद श्रवण कुमार अपनी मां इच्‍छा पूरी करने के लिए पालकी में बिठाकर पैदल हरिद्वार के लिए निकल पड़े हैं। बूढ़ी मां को सावन में हरिद्वार से गंगा जल लाने की इच्छा थी। 101 साल की उम्र, शरीर में इतनी ताकत नहीं जो अकेली चली जाती। दोनों भाइयों ने कावर बनाई और बीच में मां को बैठाकर कंधे पर पैदल बरेली से हरिद्वार तीर्थ घुमाने निकल पढ़े।

यह भी पढ़ें... VIDEO: आज का श्रवण कुमार, 20 साल में मां को कराई 37 हजार किमी. यात्रा

क्‍या है पूरा मामला

-मामला बरेली के कुंवरपुर गांव का है।

-मां काफी बुजुर्ग है ज्यादा पैदल नहीं चल सकती।

-उनकी काफी इच्छा थी हरिद्वार से पैदल गंगाजल लेकर आएं और अपने शिवमन्दिर पर जलाभिषेक करें।

-इस पर फकीर चंद्र ने मां को पालकी में बैठाया और चल पढ़े हरिद्वार गंगा जल लेने।

-इनको देखकर हर कोई कलयुग का श्रवण कुमार बता रहा है।

-उनके साथ भाई धर्मवीर व भतीजे करन, श्रीपाल और बहन नारायणी देवी भी कांवर लेकर चली हैं।

-शहर से गुजरते वक्त उन्होंने बीच में आराम किया और लोगों ने काफी बातचीत की।

-उन्होंने बताया कि माता-पिता की सेवा से ही सब कुछ मिलता है।

-फकीर चंद्र ने कहा कि सावन के आखिरी सोमबार तक वह अपने गांव वापस लौट जाएंगे और माता को जल अभिषेक कराएंगे।

Newstrack

Newstrack

Next Story