Top

रोके भी न रुकेंगे आप के आंसू......बाप ने अपनी बेटी से कहा 'हाँ मैं भिखारी हूँ'

Rishi

RishiBy Rishi

Published on 7 April 2017 4:04 PM GMT

रोके भी न रुकेंगे आप के आंसू......बाप ने अपनी बेटी से कहा हाँ मैं भिखारी हूँ
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

नई दिल्ली : क्या आप यकीन करेंगे, कि एक बाप को अपनी बेटी के लिए नए कपड़े खरीदने में 2 साल का समय लग गया। नहीं न लेकिन ये सच है, एक लाचार बाप को अपनी बेटी के लिए नई ड्रेस खरीदने में लग गए दो साल।

ये भी देखें : विशेष रिपोर्ट : जब पुलिस अधिकारी ही करेंगे भ्रष्टाचार, तो रोकेगा कौन ?

पड़ोसी देश बांग्लादेश के रहने वाले कवसर हुसैन चाह कर भी अपनी बिटिया के लिए 2 साल से कपड़े नहीं खरीद पा रहे थे। हुसैन कई साल पहले अपना सीधा हाथ एक दुर्घटना में खो चुके हैं। बड़ी मुश्किल से बाप बेटी दिन का खाना खा पाते हैं कई बार तो ऐसा होता है कि हुसैन पानी पीकर सो जाते हैं। उनकी नन्ही बिटिया उन्हें अपने हाथ से खाना खिलाती है, तो उनकी आखें नाम हो जाती है। बिटिया जब किसी को नए कपडे में देखती तो अपने पैबंद लगे कपड़ों पर हाथ फेरती। ये देख हुसैन का दिल फट जाता। लेकिन बेटी ने कभी उनसे नए कपड़ों की मांग नहीं की।

एक दिन हुसैन 5 टका का नोट लेकर एक दुकान गए लेकिन दुकानदार ने उन्हें भिखारी कहकर अपमानित किया। इसपर बेटी ने उनका हाथ पकड़ बाहर चलने को कहा। हुसैन ने बह रहे आंसू पोंछे और बेटी से कहा हां मैं भिखारी हूं।

हुसैन ने इसके बाद दिन रात मेहनत की और 2 साल बाद बेटी के लिए नया ड्रेस ख़रीदा। इसके बाद बाप बेटी पार्क गए वहां काफी दिनों के बाद दोनों ने मस्ती की। हुसैन ने अपनी बिटिया से कहा अब उसका पिता भिखारी नहीं है।

Rishi

Rishi

आशीष शर्मा ऋषि वेब और न्यूज चैनल के मंझे हुए पत्रकार हैं। आशीष को 13 साल का अनुभव है। ऋषि ने टोटल टीवी से अपनी पत्रकारीय पारी की शुरुआत की। इसके बाद वे साधना टीवी, टीवी 100 जैसे टीवी संस्थानों में रहे। इसके बाद वे न्यूज़ पोर्टल पर्दाफाश, द न्यूज़ में स्टेट हेड के पद पर कार्यरत थे। निर्मल बाबा, राधे मां और गोपाल कांडा पर की गई इनकी स्टोरीज ने काफी चर्चा बटोरी। यूपी में बसपा सरकार के दौरान हुए पैकफेड, ओटी घोटाला को ब्रेक कर चुके हैं। अफ़्रीकी खूनी हीरों से जुडी बड़ी खबर भी आम आदमी के सामने लाए हैं। यूपी की जेलों में चलने वाले माफिया गिरोहों पर की गयी उनकी ख़बर को काफी सराहा गया। कापी एडिटिंग और रिपोर्टिंग में दक्ष ऋषि अपनी विशेष शैली के लिए जाने जाते हैं।

Next Story