Top

विवाह के दौरान दूल्हे को आई मिर्गी तो अफसर ने सुंघाया जूता, खूब नाचे मंत्री

छत्तीसगढ़ के दंतेवाड़ा जिले में रविवार को हैरान कर देने वाला मामला सामने आया। मामला 300 जोड़ों के सामूहिक विवाह से जुड़ा हुआ है। दरअसल हुआ यूं कि यहां सामूहिक विवाह की रस्मों के दौरान ही एक दूल्हा बेहोश होकर गिर पड़ा।

Aditya Mishra

Aditya MishraBy Aditya Mishra

Published on 1 March 2020 11:12 AM GMT

विवाह के दौरान दूल्हे को आई मिर्गी तो अफसर ने सुंघाया जूता, खूब नाचे मंत्री
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

दंतेवाड़ा: छत्तीसगढ़ के दंतेवाड़ा जिले में रविवार को हैरान कर देने वाला मामला सामने आया। मामला 300 जोड़ों के सामूहिक विवाह से जुड़ा हुआ है।

दरअसल हुआ यूं कि यहां सामूहिक विवाह की रस्मों के दौरान ही एक दूल्हा बेहोश होकर गिर पड़ा। जिले के गडमीरी गांव के रहने वाले दूल्हे बुधराम को मिर्गी का दौरा आना बताया गया। इस दौरान कोई डॉक्टर या एंबुलेंस वहां नहीं थी।

ऐसे में कार्यक्रम स्थल पर मौजूद ज्वाइंट कलेक्टर अभिषेक अग्रवाल पहुंचे और बुधराम को जूता सुंघाने लगे। राहत की बात रही कि कुछ देर बाद बुधराम को होश आ गया और फिर से शादी के कार्यक्रम में शामिल हो गया।

ये भी पढ़ें...इस तरह के झटके लेंगे आपकी जान, करवाइए तुरंत उपचार

आबकारी मंत्री कवासी लखमा मुख्य अतिथि के तौर पर हुए थे शामिल

दंतेवाड़ा में जिला प्रशासन द्वारा सामूहिक विवाह का आयोजन किया गया है। जिला मुख्यालय में आयोजित इस कार्यक्रम में प्रदेश के आबकारी मंत्री कवासी लखमा बतौर मुख्य अतिथि शामिल हुए।

इससे पहले तैयारियों को लेकर प्रशासन पर सवालिया निशान लग गए। क्योंकि रस्म के दौरान जब एक दूल्हा बेहोश हो गया तो वहां इलाज के लिए कोई इंतजाम नहीं था। कार्यक्रम स्थल पर एक हजार से ज्यादा लोग मौजूद थे फिर भी आपात स्थिति से निपटने के लिए न तो डॉक्टर थे और न ही एंबुलेंस।

वैवाहिक कार्यक्रम में ढोल व बाजे से स्वागत

सामूहिक विवाह कार्यक्रम में बतौर मुख्य अतिथि पहुंचे मंत्री कवासी लखमा अपने अलग ही अंदाज में नजर आए। वैवाहिक कार्यक्रम में ढोल व बाजे बजाए जा रहे थे।

ऐसे में मंत्री लखमा खुद को रोक नहीं पाए और ढोल की थाप पर खुद भी डांस करने लगे। मंत्री लखमा ने कहा कि इस तरह के आयोजन प्रशासनिक स्तर पर समय समय पर किए जाने चाहिए।

सही समय पर इलाज न मिलने से होती हैं ज्यादातर मौतें और विकलांगता, जानें और भी कारण

Aditya Mishra

Aditya Mishra

Next Story