Top

10 साल पहले हुए हादसे ने बदली थी मीनाक्षी की ज़िंदगी,उम्मीद की नई किरण लाई गुंजन

priyankajoshi

priyankajoshiBy priyankajoshi

Published on 17 Oct 2016 7:37 AM GMT

10 साल पहले हुए हादसे ने बदली थी मीनाक्षी की ज़िंदगी,उम्मीद की नई किरण लाई गुंजन
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

सहारनपुर: कहते है ज़िंदगी भगवान् का दिया सबसे खूबसूरत तोहफा होता है ,इसलिए इसका हर एक पल ख़ुशी और ढेर सारी मस्ती साथ गुज़ारना चाहिए। न जाने कब ये कौन सा रुख मोड़ ले।हल्द्वानी की चुलबुली मीनाक्षी ,जो कभी पुरे मोहल्ले की रौनक हुआ करती थी ,आज एक बंद कमरे के कोने में डरी-सहमी सी पड़ी रहती है।इसकी वजह है आज से करीब दस साल पहले हुई वो घटना जिसने सिर्फ कुछ दिनों में मीनाक्षी की पूरी ज़िंदगी बदल दी।

क्या हुआ था 10 साल पहले ?

32 वर्षीय मीनाक्षी उत्तराखंड के हल्द्वानी की रहने वाली है.आज से ठीक 10 साल पहले उसके पिता नरेन्द्र लाल शर्मा ने मीनाक्षी के हाथ पीले करने का फैसला लिया और बेटी के शादी तैयारी में जुट गए,अचानक ही उनको दिल का दौरा पड़ा और उनकी मौत हो गई।

नरेंद्र की मौत के बाद मीनाक्षी और उसकी माँ मानो टूट से गए थे।अभी पिता को मरे हफ्ता भी नहीं हुआ था की मीनाक्षी के सिर से माँ का साया भी उठ गया। एक हफ्ते में दो भारी सदमे मीनाक्षी झेल न सकी और दिमागी रूप से थोड़ी पागल हो गई।इस घटना ने उसकी पूरी ज़िन्दगी बदल दी ,जो लड़की पूरे घर में उछल-कूद करती थी आज अकेली एक कमरे में पड़ी रहती है।

आगे की स्लाइड में पढ़ें मीनाक्षी से जुड़ी कुछ और बातें...

minakshi

लोगों को देख डर जाती है मीनाक्षी

अब आलम कुछ यूँ है की अगर कोई उससे मिलने आता है तो वो डरने चिल्लाने लगती है। पडोसी भी उसके कमरे में जाने से डरते है ,और खाना -पीना कमरे के बाहर ही रख के चले जाते है।

उम्मीद की नई किरण लाई गुंजन:

इसके बाद मीनाक्षी की जिंदगी में नैनीताल की रहने वाली और सहकारी विकास परियोजना में लेखाकार गुंजन बिष्ट आई। गुंजन को जब मीनाक्षी के बारे में पता चला तो वो मीनाक्षी के घर गई।गुंजन ने हिम्मत करके सबसे पहले मीनाक्षी को कमरे से बाहर निकाला। इसके बाद गुंजन ने मीनाक्षी को फल दिए तो मीनाक्षी ने फल फेंक दिए।

गुंजन ने अपने पति कमल अरोड़ा से मीनाक्षी को अपने घर लाने की बात कही तो कमल अरोड़ा ने भी गुंजन का पूरा साथ दिया।उसने पूरे दस दिन तक मीनाक्षी को अपने घर रखा, फिर देहरादून के एक न्यूरो सर्जन से इलाज कराया।गुंजन ने बताया कि अब मीनाक्षी सही तरह से बात करने के साथ ही लोगों को पहचानने भी लगी है।

एक करोड़ 24 लाख की मालकिन है मीनाक्षी

शादी की तैयारी के लिए मीनाक्षी के पिता नरेंद्र शाह पूरी तरह से तैयार थे। बेटी को किसी भी तरह की परेशानी न हो, इसका वह पूरा ध्यान रखते थे।मीनाक्षी के खाते में एक करोड़ 24 लाख रुपये की राशि बताई जाती है, जो उसके पिता ने मीनाक्षी के खाते में जमा कराए थे। यह रकम मीनाक्षी की शादी में खर्च होनी थी,लेकिन खास बात यह है कि इस बात का मीनाक्षी को भी पता नहीं कि वह सवा करोड़ रुपये की मालकिन है।

आगे की स्लाइड्स में देखिए मीनाक्षी की कुछ और फोटोज ...

untitled-2

priyankajoshi

priyankajoshi

इन्होंने पत्रकारीय जीवन की शुरुआत नई दिल्ली में एनडीटीवी से की। इसके अलावा हिंदुस्तान लखनऊ में भी इटर्नशिप किया। वर्तमान में वेब पोर्टल न्यूज़ ट्रैक में दो साल से उप संपादक के पद पर कार्यरत है।

Next Story