Top

लावा वाला ग्रह: बना रहा है खुद का वातावरण, देखें इसकी तस्वीरें

हबल स्पेस टेलीस्कोप (Hubble Space Telescope) ने मुताबिक, पहली बार, हबल स्पेस टेलीस्कोप का उपयोग करने वाले वैज्ञानिकों ने सबूत पाया है कि एक दूर के तारे की परिक्रमा करने वाले ग्रह ने भले ही अपना वातावरण खो दिया हो।

Newstrack

NewstrackBy Newstrack

Published on 18 March 2021 6:40 AM GMT

लावा वाला ग्रह: बना रहा है खुद का वातावरण, देखें इसकी तस्वीरें
X
लावा वाला ग्रह: बना रहा है खुद का वातावरण, देखें इसकी तस्वीरें
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

नई दिल्ली: वैज्ञानिकों ने लावे से भरा हुआ एक ग्रह की खोज की है। यह ग्रह एक एलियन ग्रह (Alien planet) है, जो अपने चारों ओर अपना वायुमंडल बना रहा है। जानकारी के मुताबिक, इस एलियन ग्रह (Alien planet) की खोज हबल स्पेस टेलीस्कोप (Hubble Space Telescope) ने की है। इनका कहना है कि एलियन ग्रह ठीक उसी तरह अपना वायुमंडल तैयार कर रहा है, जैसे करोड़ों वर्ष पहले पृथ्वी के साथ हुआ था। बताया जाता है कि इस ग्रह को पहली बार 2017 में देखा गया था और इसे GJ 1132 B नाम दिया गया।

वैज्ञानिकों ने खोजा एक नया ग्रह

हबल स्पेस टेलीस्कोप (Hubble Space Telescope) ने मुताबिक, पहली बार, हबल स्पेस टेलीस्कोप का उपयोग करने वाले वैज्ञानिकों ने सबूत पाया है कि एक दूर के तारे की परिक्रमा करने वाले ग्रह ने भले ही अपना वातावरण खो दिया हो, लेकिन ज्वालामुखी गतिविधि के माध्यम से एक नया निर्माण किया। माना जाता है कि ग्रह जीजे 1132 बी को एक मोटी हाइड्रोजन वायुमंडल के साथ एक गैसीय दुनिया के रूप में शुरू किया गया था, लेकिन यह माना जाता है कि गर्म, युवा तारे की तीव्र विकिरण से यह माना जाता है कि इसने ग्रह के मूल वातावरण को तुरंत नष्ट कर दिया था।



ये भी पढ़ें... लाखों लाशों का दरवाजा: मौत की ये ऐसी जगह, आज भी मौजूद कई सारे सबूत

"द्वितीयक वातावरण"

खगोलविदों के आश्चर्य के लिए, हबल ने एक नया "द्वितीयक वातावरण" बनाया। इसमें आणविक हाइड्रोजन, हाइड्रोजन साइनाइड, मीथेन होते हैं और इसमें एक एरोसोल धुंध भी होता है। मॉडलिंग से पता चलता है कि एयरोसोल धुंध पृथ्वी पर धुंध के समान है। वैज्ञानिक GJ 1132 B में वर्तमान वायुमंडलीय हाइड्रोजन की व्याख्या करते हैं, क्योंकि यह मूल वातावरण से है जिसे ग्रह के पिघले हुए मैग्ना मेंटल में अवशोषित किया गया था और अब इसे ज्वालामुखी प्रक्रियाओं के माध्यम से ज्वालामुखी के माध्यम से एक नया वातावरण बनाने के लिए धीरे-धीरे छोड़ा जा रहा है।



ज्वालामुखीय गतिविधि द्वारा बना रहा नया वातावरण

हबल स्पेस टेलीस्कोप (Hubble Space Telescope) के मुताबिक, माना जाता है कि आज हम GJ 1132 B पर जो वातावरण देख रहे हैं, उसे माना जाता है कि अंतरिक्ष में भागने वाले हाइड्रोजन को संतुलित करने के लिए इसे लगातार दोहराया जाता है। निष्कर्ष हमारे सौर मंडल से परे अन्य एक्सोप्लैनेट, ग्रहों के लिए निहितार्थ हो सकते हैं। इस चित्रण में हाइड्रोजन, मीथेन और हाइड्रोजन साइनाइड के मदिरा का पृथ्वी के आकार, चट्टानी एक्सोप्लैनेट के लिए दूसरा वातावरण माना जाता है। हबल का उपयोग करने वाले वैज्ञानिक सोचते हैं कि यह नया वातावरण बना है और इसे ज्वालामुखीय गतिविधि द्वारा फिर से बनाया गया है।

दोस्तों देश दुनिया की और खबरों को तेजी से जानने के लिए बनें रहें न्यूजट्रैक के साथ। हमें फेसबुक पर फॉलों करने के लिए @newstrack और ट्विटर पर फॉलो करने के लिए @newstrackmedia पर क्लिक करें।

Newstrack

Newstrack

Next Story