Top

MTCR में भारत की एंट्री तय, बेच सकेगा मिसाइलें, खरीद सकेगा अटैक ड्रोन

Rishi

RishiBy Rishi

Published on 7 Jun 2016 11:05 PM GMT

MTCR में भारत की एंट्री तय, बेच सकेगा मिसाइलें, खरीद सकेगा अटैक ड्रोन
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

वॉशिंगटनः प्रमुख मिसाइल प्रौद्योगिकी नियंत्रण व्यवस्था (एमटीसीआर) के सदस्यों ने भारत को भी इसमें शामिल करने पर सहमति जता दी है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अमेरिकी यात्रा के संदर्भ में इसे बड़ी उपलब्धि माना जा रहा है। एमटीसीआर में शामिल होने के बाद भारत चुनिंदा मिसाइलें बेच सकेगा और उसे नई तकनीकी भी मिल सकेगी।

किसी भी सदस्य देश ने नहीं जताई आपत्ति

मिसाइल बनाने वाले 34 देशों के समूह में भारत को शामिल करने के प्रस्ताव पर किसी भी सदस्य देश ने आपत्ति नहीं जताई। भारत के इस समूह में शामिल होने से अमेरिका से प्रीडेटर जैसे हमलावर ड्रोन विमान खरीदने और नई तकनीकी वाली मिसाइलों का भारत निर्यात कर सकेगा। इनमें 250 किलोमीटर तक मार करने वाली पृथ्वी-1 और ब्रह्मोस मिसाइल शामिल हैं।

ओबामा ने किया था समर्थन

इससे पहले अमेरिकी राष्ट्रपति बराक ओबामा ने एमटीसीआर और तीन अन्य निर्यात नियंत्रण व्यवस्था- ऑस्ट्रेलिया समूह, परमाणु आपूर्तिकर्ता समूह (एनएसजी) और वासेनार समझौते में भारत की सदस्यता का खुलकर समर्थन किया था। भारत के एनएसजी का सदस्य बनने के मामले में ओबामा प्रशासन फिलहाल सब अच्छा रहने की ही कामना कर रहा है, क्योंकि चीन इस समूह में भारत की सदस्यता का खुलकर विरोध कर रहा है।

क्या है एमटीसीआर?

अप्रैल 1987 में स्थापित ऐच्छिक एमटीसीआर का मकसद उन बैलिस्टिक मिसाइलों और दूसरे ऐतिहासिक आपूर्ति तंत्रों के प्रसार को सीमित करना है, जिनका इस्तेमाल रासायनिक, जैविक और परमाणु हमलों के लिए किया जा सकता है। एमटीसीआर अपने सदस्यों से अपील करता है कि 500 किलोग्राम के पेलोड को कम से कम 300 किलोमीटर तक ले जा सकने वाली मिसाइलों और संबधित प्रौद्योगिकियों को और सामूहिक तबाही वाले किसी भी हथियार की आपूर्ति बंद करें।

Rishi

Rishi

आशीष शर्मा ऋषि वेब और न्यूज चैनल के मंझे हुए पत्रकार हैं। आशीष को 13 साल का अनुभव है। ऋषि ने टोटल टीवी से अपनी पत्रकारीय पारी की शुरुआत की। इसके बाद वे साधना टीवी, टीवी 100 जैसे टीवी संस्थानों में रहे। इसके बाद वे न्यूज़ पोर्टल पर्दाफाश, द न्यूज़ में स्टेट हेड के पद पर कार्यरत थे। निर्मल बाबा, राधे मां और गोपाल कांडा पर की गई इनकी स्टोरीज ने काफी चर्चा बटोरी। यूपी में बसपा सरकार के दौरान हुए पैकफेड, ओटी घोटाला को ब्रेक कर चुके हैं। अफ़्रीकी खूनी हीरों से जुडी बड़ी खबर भी आम आदमी के सामने लाए हैं। यूपी की जेलों में चलने वाले माफिया गिरोहों पर की गयी उनकी ख़बर को काफी सराहा गया। कापी एडिटिंग और रिपोर्टिंग में दक्ष ऋषि अपनी विशेष शैली के लिए जाने जाते हैं।

Next Story