Top

VIDEO: इस दिव्यांग ने अपनी कमजोरी को बनाया सबसे बड़ा हथियार , ऐसे जज्बे को सलाम !

tiwarishalini

tiwarishaliniBy tiwarishalini

Published on 29 Dec 2016 7:49 AM GMT

VIDEO: इस दिव्यांग ने अपनी कमजोरी को बनाया सबसे बड़ा हथियार , ऐसे जज्बे को सलाम !
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

आगरा : चेहरे पर मुस्कान और दिल में कुछ कर दिखाने का जज्बा । उसने अपनी कमी को ही अपना हथियार बना लिया। लक्ष्य पर निशाना साध कामयाबी को कदमो में ले आई । और देखते ही देखते ताजनगरी के बेहतरीन निशानोबाजो में शुमार हो गई । जी हां, हम बात कर रहे है सोनिया शर्मा की जिसने विकलांग होते हुए भी दूसरों के सामने सफलता की अनूठी मिसाल कायम की है।

नेशनल गेम्स में जीता सिल्वर मैडल

सोनिया ने नेशनल गेम्स में उलटे हाथ से पिस्तौल चला कर सिर्फ सिल्वर मैडल हासिल किया।इतना ही नहीं भारत की सेकंड बेस्ट दिव्यांग महिला शूटर का खिताब भी अपने नाम किया। मगर इनसब के बावजूद उसे बदले में न सरकार की मदद मिली ना ही प्रशंसा।

आगे की स्लाइड में जाने कौन है सोनिया ...

कौन है सोनिया

-सेंट जोंस की एम कॉम फर्स्ट ईयर की छात्रा सोनिया शर्मा बचपन से अपाहिज हैं।

-दाए हाथ का सहारा न होने के बावजूद वो काफी अच्छी निशानेबाज़ी करती हैं।

-सोनिया पर निशानेबाजी का जुनून इस कदर सवार है कि उसने इसी क्षेत्र में नाम रोशन करने की ठानी।

-पूरे यूपी से दस मीटर एयर पिस्टल खेलने वाली इकलौती लड़की और आगरा के बल्केश्वर के एक छोटे से क्वाटर में रहने वाली सोनिया की कहानी बहुत दुख भरी है।

-पिता ठाकुरदास को लगता था की एक दिन सोनिया उनका नाम रोशन करेगी।

-2011 में सोनिया के स्कूल सेंट एन्ड्रूज में शूटिंग रेंज बनाई गयी और कैम्प लगा जिसमे सोनिया ने आम बच्चों की तरह भाग लिया।-अच्छा निशाना लगाने पर स्कूल ने उसे यूपी लेवल पर खेलने भेज दिया गया।

-वहां सोनिया ने विकलांगता को पछाड़ कर जनरल कैटेगिरी में भाग लेते हुए सिल्वर पदक हासिल कर नाम कमाया।

-उसके बाद डिस्ट्रिक्ट लेवल पर हो रही चैम्पियन शिप में सोनिया के अविकसित हाथ रायफल का बोझ नही उठा पाये और हाथ से खून निकलने लगा पर सोनिया ने खेल जारी रखा और गोल्ड मेडल जीता।

सरकार ने नहीं की कोई मदद

देश और प्रदेश में इतना नाम करने के बावजूद सोनिया को ना सरकार से मदद मिली और ना कोई प्रशंसा। वो पैरा वर्ल्डकप में हिस्सा लेना चाहती है मगर पैसों की कमी के चलते वो तैयारी नहीं कर पा रही। सोनिया के कोच विक्रांत सिंह को पूरा भरोसा है अगर सरकार से मदद मिले तो सोनिया हर हाल में देश के लिए फरवरी में होने वाले दुबई में वर्ल्ड कप में पदक जीत कर लाएगी। उन्होंने बताया की सोनिया काफी हिम्मत वाली लड़की है वो कभी भी हिम्मत नहीं हारती।

आगे की स्लाइड्स में देखें फोटोज ...

आगे की स्लाइड में देखें वीडियो ...

tiwarishalini

tiwarishalini

Excellent communication and writing skills on various topics. Presently working as Sub-editor at newstrack.com. Ability to work in team and as well as individual.

Next Story