Top

IFC UP32 ने 32 मुद्दों पर 32 किमी चलकर उठाई आवाज, पेश किया नुक्कड़ नाटक

By

Published on 29 Nov 2017 5:25 AM GMT

IFC UP32 ने 32 मुद्दों पर 32 किमी चलकर उठाई आवाज, पेश किया नुक्कड़ नाटक
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

लखनऊ: परेशानियों से भागना आसान होता है,

हर मुश्किल जिंदगी में एक इम्तिहान होता है।

हिम्मत हारने वाले को कुछ नहीं मिलता ज़िंदगी में,

और मुश्किलों से लड़ने वाले के क़दमों में ही तो जहान होता है।

ये चंद लाइनें अगर राजधानी लखनऊ के सांस्कृतिक ग्रुप 'इनोवेशन फॉर चेंज' के लिए कही जाएं, तो शायद गलत नहीं होंगी। एक तरफ जहां आज लोगों के पास दूसरों के लिए एक मिनट का वक्त नहीं है, वहीं दूसरी ओर 'इनोवेशन फॉर चेंज' ग्रुप के युवाओं ने समाज में फैली बुराइयों, महिला अपराध, अस्वच्छता, पर्यावरण संरक्षण और बाल हिंसा जैसे मुद्दों के खिलाफ आवाज उठाकर बदलाव की नई पहल शुरू की है।

27 नवंबर को टीम 'इनोवेशन फॉर चेंज' ने अपनी IFC UP32 मुहिम को आगे बढ़ाते हुए लखनऊ शहर में करीब 32 किलोमीटर की यात्रा तय की। इस दौरान टीम के सभी सदस्यों ने लोगों को शहर के 32 बड़े मुद्दे जैसे साफ़-सफाई, दुर्व्यवहार, पर्यावरण संरक्षण, महिला अपराध और बाल हिंसा आदि पर लोगों को जागरूक किया। इसके लिए 32 कलाकारों ने 1090 चौराहे पर एक नुक्कड़ नाटक भी प्रस्तुत किया।

क्या है मुहिम IFC UP32

- मुहिम IFC UP32 की शुरुआत Say No To Elder Abuse मुद्दे के साथ 21 नवंबर 2016 को की गई थी, जिसके 9 चरणों को इस टीम ने पार कर लिया है। इन 9 चरणों में इनोवेशन फॉर चेंज ने 4 जिलों में जागरूकता फैलाने का काम किया।

- इस मुहिम का मुख्य लक्ष्य शहर में फैली असंवेदनशीलता, असुरक्षा तथा कमजोर वर्ग के साथ हो रहे दुर्व्यवहार को खत्म कर उनको समाज में एक उचित स्थान दिलाना है।

आगे की स्लाइड में पढ़िए इस टीम से जुडी और भी ख़ास बातें

- नुक्कड़ नाटकों के जारी टीम लखनऊ की समस्याओं जैसे सफाई, बुजुर्गों की समस्याओं को अनदेखा करना, गरीबी, परिवार से बिछड़ने बच्चे, यातायात, महिला हिंसा अन्य बहुत सी परेशानीओं को उठा रही है।

- इस मुहिम में जागरूकता अभियान को प्रभावी बनाने के लिए टीम ढोलक-ढपली और गिटार वगैरह का प्रयोग भी कर रही है।

- इस मुहिम में आशीष, संजय सजल, मनीष, नेहा भावना, प्रभात, कुलदीप, हर्षित, विशाल, जीतू, प्रज्ञा, दीपक, स्नेहा, यास्मीन और अम्बर जैसे युवा अपने रचनात्मक कौशल के द्वारा समाज की समस्याओं के खिलाफ लोगों को जागरूक कर रहे हैं।

-टीम का कहना है कि वह आगे भी इसी तरह लोगों को उनके हक़ और सामाजिक बुराइयों के प्रति जागरूक करते रहेंगे।

आगे की स्लाइड में देखिए इस मुहिम से जुड़ी कुछ तस्वीरें

आगे की स्लाइड में देखिए इस मुहिम से जुड़ी और भी तस्वीरें

आगे की स्लाइड में देखिए इस मुहिम से जुड़ी और भी तस्वीरें

आगे की स्लाइड में देखिए इस मुहिम से जुड़ी और भी तस्वीरें

आगे की स्लाइड में देखिए इस मुहिम से जुड़ी और भी तस्वीरें

आगे की स्लाइड में देखिए इस मुहिम से जुड़ी और भी तस्वीरें

Next Story