Top

कभी पुलिस ने मांगी थी रिश्वत, पहले IPS और अब IAS बनीं गरिमा सिंह

Newstrack

NewstrackBy Newstrack

Published on 10 May 2016 3:51 PM GMT

कभी पुलिस ने मांगी थी रिश्वत, पहले IPS और अब IAS बनीं गरिमा सिंह
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

झांसीः जो उम्मीद की चाह रखते हों और दिल में जज्बा, तो मंजिले खुद ब खुद कदम चूमतीं हैं। ऐसी ही सोच रखने वाली हैं आईपीएस से आईएएस बनीं गरिमा सिंह। इन्होंने 29 साल की उम्र में अपना आईएएस बनने का सपना पूरा कर लिया है।

उनके इस सपने को पूरा करने के लिए उनके माता-पिता और पति राहुल ने उनका समय-समय पर मनोबल और उत्साह बढ़ाया। आईएएस बनने के बाद उनका पहला सपना होगा विकास और आर्थिक रुप से कमजोर लोगों की मदद करना।

garima-ias

यह भी पढ़ें...IAS बनने का सपना हुआ पूरा, कोई था इंजीनियर तो कोई है इंस्पेक्टर

दिल्ली यूनिवसिर्टी से की पढ़ाई

-उत्तर प्रदेश के बलिया की रहने वाली गरिमा सिंह है।

-उनके माता पिता नोएडा में रहते हैं और बड़ी बहन मुम्बई में जॉब करती है।

-पिता ओमकारनाथ गुड़गांव की एक कम्पनी में इंजीनियर हैं।

-उन्होंने दिल्ली यूनिवसिर्टी से बीए और एमए की पढ़ाई की है।

-उनके पति राहुल राय नोएडा में एक कंपनी में इंजीनियर हैं।

garima

यह भी पढ़ें...सिविल सर्विसेज में आई 5वीं रैंक,अब ग्राउंड लेवल पर करना चाहते हैं काम

जब पुलिसवाले ने मांगी रिश्वत

-गरिमा सिंह ने अपनी यादों को साझा करते हुए बताया-डीयू में पढाई के दौरान मैं एक मॉल से रात में दोस्तों के साथ होस्टल लौट रही थी। तभी चेकिंग के लिए तैनात पुलिसवाले ने हमारा रिक्शा रोक लिया।

-रात में कहां से आ रही हो? कहां जाना है? जैसे सवाल पूछने के बाद हमसे 100 रुपए मांगे।

-मना किया तो घरवालों को फोन कर शिकायत करने की धमकी देने लगा।

- बहस के बाद पुलिस वाले ने हमें जाने तो दिया, लेकिन इस वाक्ये ने मेरे मन में पुलिस के खिलाफ गुस्सा भर दिया।

कुछ ही दिनों में आईपीएस के पद पर गरिमा ने गहरी छाप छोड़ी

यह है आईपीएस से आईएएस का सफर

-गरिमा के सपने को पूरा करने में उनके माता-पिता,बड़ी बहन का सहयोग रहा।

-उन्होंने शुरु से ही उनके सपने को पूरा करने के लिए उनका मनोबल बढ़ाया है।

-उनके पिता का सपना था कि वह अपनी बेटी को सिविल सर्विसेस में देखें।

-उन्होंने तैयारी की और प्रथम बार में ही आईपीएस में चयनित हो गईं।

-वे 2012 बैच की आईपीएस हैं।

-आईपीएस बनने पर उन्होंने अपनी जिम्मेदारी का पूरा निर्वाहन किया।

-उनके पास आने वाले फरियादियों को उन्होंने न्याय दिलाने का प्रयास किया।

-ड्यूटी के बाद जो समय उन्हें आराम करने के लिए मिलता था उसमें वे पढ़ाई करतीं थीं।

-आईएएस बनने में उन्हें पहली बार सफलता नहीं मिली।

-दूसरी बार फिर प्रयास किया और उन्होंने इस बार अपने सपने को पूरा कर लिया।

-उन्होंने सामान्य श्रेणी की 91 सीटों में 55 वें रैंक को हासिल किया है।

यह भी पढ़ें...काशी की बेटी अर्तिका को UPSC में फोर्थ रैंक, PM संग काम करने की इच्छा

ias-garima-hubby

पति का भी रहा सहयोग

शादी के बाद उनके पति राहुल को जब उनके आईएएस के सपने की जानकारी हुई तो उन्होंने भी उनका मनोबल बढ़ाया। पति के साथ-साथ सास-ससुर ने भी उन्हें इस तरक्की तक पहुंचने में साथ दिया।

grima-ips

लगन और इच्छा शक्ति से कोई भी मंजिल हो सकती है हासिल

वह नहीं मानती हैं कि इस मुकाम पर पहुंचने के लिए 15 से 16 घंटे की पढ़ाई की जरुरत होती है। कम समय भी इसकी तैयारी की जा सकती है, जरुरत है तो लगन और इच्छा शक्ति की। अगर दिल में सपना पूरा करने की तमन्ना हों तो फिर कोई भी मंजिल हासिल की जा सकती है। आईएएस की तैयारियों करने वालों से वे बस इतना ही कहना चाहती है कि उन्हें अपने अंदरर जज्बे को जगाना होगा और फिर देखिए कि मंजिल आपके कदम चूमेगी।

यह भी पढ़ें...UPSC रिजल्ट : दिल्ली की टीना डाबी बनी टॉपर, J&K के अतहर दूसरे स्थान पर

ips-garima

विकास और कमजोर लोगों की मदद करने का होगा सपना

गरिमा बस एक ही सपना होगा कि जिस प्रकार उन्होंने अभी तक अपने पदों पर रहकर जिम्मेदारी को पूरा किया है उसी प्रकार आगे भी अपनी जिम्मेदारियों को पूरा करेंगी। उनका पहला सपना होगा कि वे जिस क्षेत्र में भी रहें वहां विकासकारी कार्य करें और कमजोर लोगों की मदद करेंगी।

Newstrack

Newstrack

Next Story