Top

कहकशां बसु ने जीता अंतरराष्ट्रीय बाल शांति पुरस्कार, पर्यावरण बचाने के लिए करती हैं संघर्ष

संयुक्त अरब अमीरात (यूएई) में रहने वाली 16 साल की भारतीय मूल की कहकशां बसु को इस साल का अंतरराष्ट्रीय बाल शांति पुरस्कार दिया गया है। अंतरराष्ट्रीय स्तर पर रेकॉर्ड 120 नाम आए थे। यह पुरस्कार उन्हें पर्यावरण और जलवायु के लिए संघर्ष करने की वजह से दिया गया।

tiwarishalini

tiwarishaliniBy tiwarishalini

Published on 3 Dec 2016 11:28 PM GMT

कहकशां बसु ने जीता अंतरराष्ट्रीय बाल शांति पुरस्कार, पर्यावरण बचाने के लिए करती हैं संघर्ष
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

हेग: संयुक्त अरब अमीरात (यूएई) में रहने वाली 16 साल की भारतीय मूल की कहकशां बसु को इस साल का अंतरराष्ट्रीय बाल शांति पुरस्कार दिया गया है। अंतरराष्ट्रीय स्तर पर रेकॉर्ड 120 नाम आए थे। यह पुरस्कार उन्हें पर्यावरण और जलवायु के लिए संघर्ष करने की वजह से दिया गया। उन्हें यहां एक समारोह में बांग्लादेश के नोबेल पुस्कार विजेता मोहम्मद यूनुस ने यह पुरस्कार प्रदान किया।

12 साल के उम्र में की ग्रीन होप की स्थापना

-पर्यावरण कार्यकर्ता कहकशां ने 12 साल की उम्र में अपने संगठन ग्रीन होप की स्थापना की थी।

-जो अब 10 से अधिक देशों में कार्यरत है।

-जिसमें 1,000 से अधिक स्वयंसेवी हैं।

-कहकशां विभिन्न अंतरराष्ट्रीय सम्मेलन को संबोधित कर चुकी हैं।

क्या कहा मुहम्मद यूनुस ने ?

-इस मौके पर मुहम्मद यूनुस ने कहा कि इतनी कम उम्र की शख्सियत की यह महान उपलब्धि है।

-बच्चों के जीवित रहने, उनके सुख और विकास के लिए स्वस्थ पर्यावरण बहुत आवश्यक है।

क्या कहा किड्स राइट्स फाउंडेशन ने ?

किड्स राइट्स फाउंडेशन के संस्थापक मार्क दुल्लार्ट ने कहा कि कहकशां इस वजह से जीतीं, क्योंकि उसने वास्तविक प्रभाव के साथ एक आंदोलन शुरू करने की अपनी क्षमता साबित की।

tiwarishalini

tiwarishalini

Excellent communication and writing skills on various topics. Presently working as Sub-editor at newstrack.com. Ability to work in team and as well as individual.

Next Story