Top

अगर आप लेते हैं 6 घंटे से कम नींद, तो हो जाएं सावधान, जानें कितना है खतरनाक

aman

amanBy aman

Published on 28 May 2017 12:45 PM GMT

अगर आप लेते हैं 6 घंटे से कम नींद, तो हो जाएं सावधान, जानें कितना है खतरनाक
X
अगर आप लेते हैं 6 घंटे से कम नींद, तो हो जाएं सावधान, जानें कितना है खतरनाक
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

न्यूयॉर्क: छह घंटे से कम नींद मेटाबोलिक सिंड्रोम से पीड़ित लोगों में मृत्यु का जोखिम लगभग दोगुना कर सकती है। मेटाबोलिक सिंड्रोम डायबिटीज, हाई ब्लड प्रेशर और मोटापे का एक संयोजन है।

एक अध्ययन से पता चला है कि मेटाबॉलिक सिंड्रोम से पीड़ित लोग अगर छह घंटे से अधिक की नींद लेते हैं, तो उन्हें स्ट्रोक के कारण मौत का जोखिम लगभग 1.49 गुना अधिक होता है। वहीं, इसके उलट छह घंटे से कम सोने वालों को हृदय रोग से मौत का जोखिम 2.1 फीसदी अधिक होता है।

मौत का जोखिम अधिक

शोधकर्ताओं ने बताया कि मेटाबॉलिक सिंड्रोम से पीड़ित कम नींद लेने वालों को बगैर मेटाबॉलिक सिंड्रोम से पीड़ित लोगों की तुलना में किसी भी कारण से 1.99 प्रतिशत अधिक मौत का जोखिम होता है।

'अमेरिकन हार्ट एसोसिएशन' पत्रिका में छपी रिपोर्ट

यूनिवर्सिटी ऑफ पेंसिलवेनिया से सहायक प्राध्यापक व इस अध्ययन के मुख्य लेखक, जूलियो फर्नांडीस-मेंडोजा ने कहा, 'अगर आप हृदय रोग के जोखिम से गुजर रहे हैं तो अपनी नींद का ध्यान रखें। अगर आप नींद की कमी से ग्रस्त हैं, तो इस जोखिम से बचने के लिए डॉक्टर से परामर्श लें।' यह शोध 'अमेरिकन हार्ट एसोसिएशन' पत्रिका में प्रकाशित किया गया है।

aman

aman

अमन कुमार, सात सालों से पत्रकारिता कर रहे हैं। New Delhi Ymca में जर्नलिज्म की पढ़ाई के दौरान ही ये 'कृषि जागरण' पत्रिका से जुड़े। इस दौरान इनके कई लेख राष्ट्रीय, अंतरराष्ट्रीय और कृषि से जुड़े मुद्दों पर छप चुके हैं। बाद में ये आकाशवाणी दिल्ली से जुड़े। इस दौरान ये फीचर यूनिट का हिस्सा बने और कई रेडियो फीचर पर टीम वर्क किया। फिर इन्होंने नई पारी की शुरुआत 'इंडिया न्यूज़' ग्रुप से की। यहां इन्होंने दैनिक समाचार पत्र 'आज समाज' के लिए हरियाणा, दिल्ली और जनरल डेस्क पर काम किया। इस दौरान इनके कई व्यंग्यात्मक लेख संपादकीय पन्ने पर छपते रहे। करीब दो सालों से वेब पोर्टल से जुड़े हैं।

Next Story