Top

29नवंबर को लखनऊ ज़ू मनाएगा अपना 95वां जन्मदिन, दर्शकों को मिलेंगी कई सौगातें

अपने दिल में यहाँ रहने वाले जानवरो के लिए ढेर सारा प्यार लिए लखनऊ ज़ू 95 साल का ज़रूर हो गया लेकिन बढ़ती उम्र के साथ साथ ज़ू प्रशासन , जानवरो और यहाँ आने वाले दर्शको का रिश्ता और भी गहरा होता जा रहा है। अपने इसी रिश्ते को और मज़बूत करने के लिए ज़ू प्रशांसन केक काट कर अपनी सालगिरह का जश्न मनाएगा।

priyankajoshi

priyankajoshiBy priyankajoshi

Published on 20 Nov 2016 10:35 AM GMT

29नवंबर को लखनऊ ज़ू मनाएगा अपना 95वां जन्मदिन, दर्शकों को मिलेंगी कई सौगातें
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

lko-zoo

लखनऊ : नवाब वाजिद अली शाह प्राणी उद्यान 29 नवंबर को अपनी स्थापना के 95 साल पूरे करने जा रहा है। 29 नवंबर 1921 में लखनऊ के नवाब वाजिद अली शाह प्राणी उद्यान की स्थापना की गई थी। 1921 से लेकर अबतक लखनऊ का चिड़ियाघर खुद में कई खट्टी-मीठी यादे संजोये है। अपने दिल में यहाँ रहने वाले जानवरो के लिए ढेर सारा प्यार लिए लखनऊ ज़ू 95 साल का ज़रूर हो गया लेकिन बढ़ती उम्र के साथ साथ ज़ू प्रशासन , जानवरो और यहाँ आने वाले दर्शको का रिश्ता और भी गहरा होता जा रहा है। अपने इसी रिश्ते को और मज़बूत करने के लिए ज़ू प्रशांसन केक काट कर अपनी सालगिरह का जश्न मनाएगा।

ज़ू की वर्षगांठ पर आम जनता को मिलेंगी कई सौगाते

-बढ़ती उम्र के साथ साथ लखनऊ ज़ू का अंदाज़ भी बिलकुल अलग होता जा रहा है।

-प्राणी उद्यान के निदेशक अनुपम गुप्ता ने बताया की स्थापना दिवस के मौके पर ज़ू के मेन गेट के नए टिकट हॉल दर्शको के लिए खोले जाएंगे।

-3 D ऑडोटोरियम का भी जनता लुत्फ़ ले सकेगी। उन्होंने बताया कि चिड़ियाघर में हर साल 10 लाख पर्यटक आते है।

- इस स्थापना दिवस में लोगो से जुड़ने के लिए ज़ू की तरफ से कई ख़ास इंतज़ाम भी किये गए है जिससे पर्यटको की तादाद में इज़ाफ़ा हो सके।

priyankajoshi

priyankajoshi

इन्होंने पत्रकारीय जीवन की शुरुआत नई दिल्ली में एनडीटीवी से की। इसके अलावा हिंदुस्तान लखनऊ में भी इटर्नशिप किया। वर्तमान में वेब पोर्टल न्यूज़ ट्रैक में दो साल से उप संपादक के पद पर कार्यरत है।

Next Story