×

श्रद्धांजलि: आज की हिंदी को जिस युग में नया आयाम मिला, वो कहलाया 'द्विवेदी युग'

suman

sumanBy suman

Published on 15 May 2017 4:22 AM GMT

श्रद्धांजलि: आज की हिंदी को जिस युग में नया आयाम मिला, वो कहलाया द्विवेदी युग
X
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo

नई दिल्ली: रास्तों पर चलना आसान होता है। उन्हें बनाना मुश्किल. इसलिए दूसरा विकल्प चुनने वाले लोग बिरले ही होते हैं आचार्य महावीर प्रसाद द्विवेदी भी उन्हीं दुर्लभ हस्तियों में से थे जिन्होंने आज की हिंदी के लिए रास्ता बनाया। किसी बड़े और घने दरख़्त की तरह वे एक लंबे समय तक साहित्यिक जगत के सिर पर साया बनकर खड़े रहे. उनकी इस छाया में हिंदी साहित्य के कई नाम फले-फूले. यह उनका अतुलनीय योगदान ही था जिसके चलते आधुनिक हिंदी साहित्य का दूसरा युग 'द्विवेदी युग' (1893–1918) के नाम से जाना जाता है.

हिंदी साहित्य की सेवा करने वालों में आचार्य महावीर प्रसाद द्विवेदी का विशेष स्थान है। उनकी अनुपम साहित्य सेवाओं के कारण ही उनके समय को 'द्विवेदी युग' के नाम से जाना जाता है। सरल और सुबोध भाषा लिखने के पक्षधर द्विवेदी जी ने लेखकों को सरल और परिमार्जित भाषा में लिखने की प्रेरणा दी। हिंदी के महान साहित्यकार, पत्रकार एवं युगप्रवर्तक महावीर प्रसाद द्विवेदी का जन्म 15 मई, 1864 को उत्तर प्रदेश के रायबरेली जिले के दौलतपुर गांव में हुआ था। धन के अभाव में इनकी शिक्षा का क्रम अधिक समय तक नहीं चल सका। हिंदी, संस्कृत और अंग्रेजी का उन्होंने घर पर ही अध्ययन किया। उन्हें 'आचार्य' की उपाधि तो वर्ष 1931 में काशी नागरी प्रचारिणी सभा ने दी थी।

आगे...

नौकरी के लिए वह मुंबई पहुंचे। वहां टेलीग्राफ विभाग में उन्हें काम मिल गया। बाद में इंडियन मिडलैंड रेलवे में वह तार बाबू के रूप में नियुक्त हुए। नौकरी के साथ साथ महावीर अध्ययन में भी जुटे रहे। उन्होंने हिंदी के अलावा मराठी और गुजराती का भी ज्ञान प्राप्त किया। सन् 1903 में द्विवेदी जी ने मासिक पत्रिका 'सरस्वती' के संपादन का कार्यभार संभाला। इस पत्रिका के संपादक के रूप में हिंदी को आगे बढ़ाने के लिए भी उन्होंने बहुत कुछ किया। इसलिए इन पर कोई भी गर्व कर सकता है। 'सरस्वती' से अलग होने के बाद जीवन के अठारह वर्ष इन्होंने अपने गांव में बिताए।

आगे...

कविता, कहानी, आलोचना, पुस्तक समीक्षा, अनुवाद, जीवनी आदि विधाओं के साथ उन्होंने अर्थशास्त्र, विज्ञान, इतिहास व अन्य अनुशासनों को न केवल लिखा, बल्कि अन्य लेखकों को भी इस दिशा में लेखन के लिए प्रेरित किया। महावीर नैतिकता के प्रतीक थे। इनके विचारों और कथनों के पीछे इनके व्यक्तित्व की गरिमा भी कार्य करती रही।

आगे...

'काव्य-मंजूषा', 'कविता-कलाप' और 'सुमन' उनके काव्य-संग्रह हैं। उन्होंने कालिदास रचित 'मेघदूतम्' और 'कुमार संभवम्' का हिंदी में अनुवाद भी किया था। साहित्य-समालोचना के कई ग्रंथों के अलावा उनके सौ से ज्यादा निबंध प्रकाशित हुए। अपने गांव दौलतपुर में रहते हुए 21 दिसंबर, 1938 को आचार्य द्विवेदी का देहांत हो गया और इसके साथ ही हिंदी साहित्य की आचार्य-पीठ अनिश्चितकाल के लिए सूनी हो गई।

सौजन्य: आईएएनएस

suman

suman

Next Story