Top

TYPA EXHIBITION : यहां देखें 80 फोटोग्राफर्स के कैमरों में कैद बेहतरीन फोटोज

प्रदर्शनी का मुआयना करने के बाद राज्यपाल ने फोटोग्राफर्स से फोटो से संबंधित कई सवाल पूछे। इस दौरान उन्होंने कहा की इस तरह के आयोजन होते रहने चाहिए। इससे युवा प्रतिभा को आगे बढ़ने का मौका मिलता है। वर्ल्ड फोटोग्राफी दिवस के मौके पर राज्यपाल ने कहा की एक फोटो हजार शब्दो के बराबर होती है। उन्होंने कहा की यह दिवस साल 1879 से मनाया जा रहा है ,लेकिन आज फोटोग्राफी कला ने खूब तरक्की की है। आज हर किसी के पास मोबाइल मौजूद है, जिससे वह आसपास की घटनाओ को मोबाईल में कैद कर सकता है। तीन दिन चलने वाली इस प्रदर्शनी के आखिरी दिन जिलाधिकारी राजशेखर विजेता फोटोग्राफर्स को सम्मानित कर आयोजन का समापन करेंगे।

priyankajoshi

priyankajoshiBy priyankajoshi

Published on 19 Aug 2016 12:54 PM GMT

TYPA EXHIBITION : यहां देखें 80 फोटोग्राफर्स के कैमरों में कैद बेहतरीन फोटोज
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

लखनऊ : युवा फोटोग्राफर्स के जोश और जज्बे को बढ़ावा देने के लिए द यूथ फोटो जर्नलिस्ट एसोसिएशन (टाइपा) की तरफ से फोटो प्रदर्शनी का आयोजन शुक्रवार से शुरू हुआ है। प्रदर्शनी 3 दिन तक चलेगी।

ram-naik-newstrack

पिछली बार की तरह इस बार भी सामूहिक फोटो प्रतियोगिता हुई। अलीगंज की आर्ट गैलरी में इस प्रदर्शनी का उद्घाटन उत्तर प्रदेश के राज्यपाल राम नाइक ने किया।

typa-journalist-newstrack

शामिल हुई सैकड़ो खूबसूरत तस्वीरें

राज्यपाल ने कला स्रोत में लगे 80 फोटोग्राफर्स की कैमरे में कैद कलाकारी को निहारा। इसमें लखनऊ शहर की खूबसूरती, इमामबाड़ा, विधानसभा ,प्रदर्शनकारियों पर लाठी बरसाती पुलिस, पतंग लूटते बच्चे, टाइपिस्ट बाबा का टाइपराइटर तोड़ता दरोगा समेत सैकड़ो तस्वीरें शामिल थी।

typa-exhibition-newztrack

युवाओं को मिलता हैं आगे बढ़ने का मौका

प्रदर्शनी का मुआयना करने के बाद राज्यपाल ने फोटोग्राफर्स से फोटो से संबंधित कई सवाल पूछे। इस दौरान उन्होंने कहा की इस तरह के आयोजन होते रहने चाहिए। इससे युवा प्रतिभा को आगे बढ़ने का मौका मिलता है। वर्ल्ड फोटोग्राफी दिवस के मौके पर राज्यपाल ने कहा की एक फोटो हजार शब्दो के बराबर होती है। उन्होंने कहा की यह दिवस साल 1879 से मनाया जा रहा है ,लेकिन आज फोटोग्राफी कला ने खूब तरक्की की है। आज हर किसी के पास मोबाइल मौजूद है, जिससे वह आसपास की घटनाओ को मोबाईल में कैद कर सकता है। तीन दिन चलने वाली इस प्रदर्शनी के आखिरी दिन जिलाधिकारी राजशेखर विजेता फोटोग्राफर्स को सम्मानित कर आयोजन का समापन करेंगे।

priyankajoshi

priyankajoshi

इन्होंने पत्रकारीय जीवन की शुरुआत नई दिल्ली में एनडीटीवी से की। इसके अलावा हिंदुस्तान लखनऊ में भी इटर्नशिप किया। वर्तमान में वेब पोर्टल न्यूज़ ट्रैक में दो साल से उप संपादक के पद पर कार्यरत है।

Next Story