Top

एवलांच में शहीद हुए सैनिक की बेटी मां से पूछ रही- पापा को क्‍या हुआ, मम्मी रो क्यों रही हो?

By

Published on 29 Jan 2017 4:43 AM GMT

एवलांच में शहीद हुए सैनिक की बेटी मां से पूछ रही- पापा को क्‍या हुआ, मम्मी रो क्यों रही हो?
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

pratapgarh

प्रतापगढ़: 'मम्मी आप रो क्यों रही हो? पापा को क्या हुआ है? ये वो शब्द हैं, जो 6 साल की एक मासूम लड़की बार-बार अपनी मां से पूछ रही है। मां जितनी बार उसके चेहरे को देखती है, उतनी बार उसकी आंखों के झरने और तेज हो जाते हैं। बेटी को गले लिपटा लेती है। पर वो मासूम अभी भी नहीं समझ पा रही है कि उसके पापा अब इस दुनिया में नहीं हैं।

जम्‍मू कश्‍मीर में 25 जनवरी की शाम आए 3 एवलांच में 11 जवानों शहीद हो गए थे। वहीं, कई जवान बर्फ के बीच फंस गए। उनकी मदद के लिए गया यूपी का जवान विजय शुक्‍ला भी एवलांच की चपेट में आकर शहीद हो गया। जवान के शहीद होने की खबर मिलने के बाद परिवार में कोहराम मचा है।

आगे की स्लाइड में पढ़िए इस दर्द के आगे की दास्तां

pratapgarh

बेटी पूछ रही बस एक सवाल- पापा को क्‍या हुआ: विजय शुक्‍ला यूपी के प्रतापगढ़ जिले के रानीगंज थाना क्षेत्र के रहने वाले थे। करीब 14 साल पहले विजय सेना में भर्ती हुए थे। कश्‍मीर के बंदीपारा में तैनात था। खबरों की माने तो 26 जनवरी के दिन विजय 5/6 की टुकड़ी में एक दिन पहले आए एवलांच में फंसे जवानों की मदद के लिए गए थे। लेकिन मदद के दौरान दोबारा से आए एवलांच में विजय भी शहीद हो गए। शहीद का शव अभी घर नहीं पहुंचा है। सूचना मिलने के बाद से पत्‍नी मनोरमा का रो-रोकर बुरा हाल है। उनकी 6 साल की बेटी यशी अपनी मां को रोता देख बस यही सवाल पूछ रही है- मम्‍मी क्‍यों रो रही है। पापा को क्‍या हुआ है?

26 जनवरी को जवान ने पत्‍नी को किया था फोन, जानें क्‍या कहा था...

विजय 3 भाईयों में सबसे छोटे थे। पढ़ाई खत्‍म करके साल 2002 में सेना में भर्ती हो गए। साल 2009 में मनोरमा से शादी हुई। हवलदार के पद पर कश्‍मीर में तैनात थे। मनोरमा कहती हैं- 26 जनवरी को पति का फोन आया था, उन्‍होंने कहा था- ''जल्‍द ही घर आऊंगा। बेटी की बहुत याद आ रही है। अब ज्‍यादा दिन तुम लोगों से अलग नहीं रहा जाता।'' दुश्‍मनों से तो वो जंग जीत गए, लेकिन कुदरत की जंग नहीं जीत सके।

Next Story