Top

मेरठ ने चीन को पछाड़ विश्व कीर्तिमान किया अपने नाम, बनाई सबसे लंबी पेंटिंग

वर्ल्ड की सबसे लंबी पेंटिंग बनाकर सोमवार को न सिर्फ मेरठवासियों ने चीन के रिकॉर्ड को तोड़ा बल्कि एक नया वर्ल्ड रिकॉर्ड अपने नाम कर लिया। मेरठ के लोगो ने 1391.5 मीटर लंबी और 1.4 मीटर चौड़ी वर्ल्ड की सबसे लंबी पेंटिंग का निर्माण किया। जिसके लिए सुबह से ही 3500 लोग अपने हाथों में ब्रश और रंग लेकर जुटे थे।

tiwarishalini

tiwarishaliniBy tiwarishalini

Published on 14 Nov 2016 3:51 PM GMT

मेरठ ने चीन को पछाड़ विश्व कीर्तिमान किया अपने नाम, बनाई सबसे लंबी पेंटिंग
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

मेरठ ने चीन को पछाड़ विश्व कीर्तिमान किया अपने नाम, बनाई सबसे लंबी पेंटिंग पेंटिंग बनातीं बी. चंद्रकला और अन्य

मेरठ: सबसे लंबी पेंटिंग बनाकर सोमवार को न सिर्फ मेरठवासियों ने चीन के रिकॉर्ड को तोड़ा बल्कि एक नया वर्ल्ड रिकॉर्ड अपने नाम कर लिया। मेरठ के लोगो ने 1391.5 मीटर लंबी और 1.4 मीटर चौड़ी वर्ल्ड की सबसे लंबी पेंटिंग का निर्माण किया। जिसके लिए सुबह से ही 3500 लोग अपने हाथों में ब्रश और रंग लेकर जुटे थे।

जिला प्रशासन, मिलिट्री और मेरठ की जनता के सहयोग से 'मेरा शहर, मेरी पहल' के तत्वाधान में 1400 मीटर लंबी पेटिंग में गिनीज बुक आॅफ रिकॉर्ड के लिए आयोजन का शुभारंभ जीओसी राजीव कुमार, मंडलायुक्त आलोक सिंहा और डीएम बी़ चंद्रकला द्वारा अन्य अधिकारियों और नागरिकों की उपस्थिति में दीप प्रज्जवलित कर हुआ।

जिसमें मेरठवासियों ने चीन के साल 2009 के 959.35 मीटर के पेटिंग रिकॉर्ड को पछाड़कर 1391.50 मीटर लंबी पेटिंग तैयार की और गिनीज बुक आॅफ वर्ल्ड रिकार्ड में नाम दर्ज करवाया। जिसका सर्टिफिकेट विश्व रिकॉर्ड की टीम के प्रतिनिधि ऋषि नाथ ने मंडलायुक्त को प्रदान किया।

3500 से अधिक प्रतिभागी रहे शामिल

बाल दिवस के अवसर पर वर्ल्ड रिकॉर्ड के लिए आयोजित पेंटिग कार्यक्रम में 1391.50 मीटर लंबी और 1.4 मीटर चौडी पेटिंग बनाई गई, जो कि एक्योरियम थीम पर आधारित थी। कार्यक्रम में मेरठ के छात्र-छात्राओं, मिलिट्री और जिला प्रशासन के 3500 से अधिक पंजीकृत प्रतिभागियों ने कैनवास पर रंग भरकर मेरठ की पहचान को राष्ट्रीय और अंतराष्ट्रीय स्तर पर कायम किया।

बने कुल 14 हाउस

कार्यक्रम में कुल 14 हाऊस अजंता, भामबेटका, चाणक्य, दौर्णाचार्य, एलोरा, फागुन, गग्नेंद्र, हुसैन, इन्द्रप्रस्थ, जोगीमारा, कलमकारी, लावण्य, मधुबनी और नीलगिरी बनाए गए। इसके साथ ही प्रत्येक हाऊस (जो 100 मीटर का था) में एक हेड पेंटर और उसके अधीन 40 एक्सपर्ट पेंटर थे। पेटिंग आईआईएमटी चौराहे से माल रोड चौराहा होते हुए टैंक चौराहे तक बनाई गई ।

world-record

क्या कहा मंडलायुक्त ?

मंडलायुक्त आलोक सिन्हा ने कहा कि मेरठ को नेशनल और इंटरनेशनल लेवल पर प्रख्यात करने और मेरठ की जनता में आत्म विश्वास, देशप्रेम और साम्प्रदायिक सौहार्द जागृत करने के उद्देश्य से इस पेटिंग कार्यक्रम का आयोजन किया गया। जिसमें सभी जाति, धर्म, वर्ग और वर्ण के लोगों ने बढ़ चढ़कर हिस्सा लेकर मेरठ को विश्व स्तर पर नई पहचान दिलाई। उन्होंने कहा कि 1857 मे देश की आजादी का बिगुल मेरठ से ही बजा था। मेरठवासियों के अति उत्साह के कारण आज हमने चीन जैसे देश को पीछे छोडते हुए पेटिंग में नया विश्व कीर्तिमान बनाया है।

मेरठवासियों के लिए गर्व का दिन

जीओसी राजीव चाबा ने कहा कि 1400 मीटर लंबी पेटिंग में मेरठ के पेंटरों के लिए अपनी प्रतिभा दिखाने का अच्छा शुभअवसर है, जो गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड बनाने में यह हमेशा याद रहेगा। उन्होंने कहा कि मिलिट्री ने हमेशा हर अच्छे कार्य में सहयोग दिया और आगे भी देता रहेगा।

क्या कहा डीएम ने ?

-डीएम बी़ चंद्रकला ने कहा कि आज का दिन मेरठवासियों के लिए बहुत गर्व का दिन है।

-मेरठवासियों ने गिनीज बुक अॉफ वर्ल्ड रिकार्ड में नाम दर्ज कर मेरठ को विश्व स्तर पर पहचान दिलाई है ।

-जो हमेशा इतिहास में दर्ज रहेगा।

ये रहे मौजूद

इस अवसर पर सांसद राजेन्द्र अग्रवाल, जिला पंचायत अध्यक्ष सीमा प्रधान, विधायक लक्ष्मीकांत बाजपेई, एसएसपी जे रविंद्र गौड़, सीडीओ विशाख जी, अपर जिलाधिकारी प्रशासन दिनेश चंद्र आदि मौजूद रहे।

आगे की स्लाइड्स में देखिए फोटोज ...

painting-02

painting-03

painting-04

painting-05

tiwarishalini

tiwarishalini

Excellent communication and writing skills on various topics. Presently working as Sub-editor at newstrack.com. Ability to work in team and as well as individual.

Next Story