Top

बहुत अजीब है ये जगह, इलेक्ट्रॉनिक डिवाइस नहीं करता यहां काम

suman

sumanBy suman

Published on 24 Sep 2018 11:26 AM GMT

बहुत अजीब है ये जगह, इलेक्ट्रॉनिक डिवाइस नहीं करता यहां काम
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

जयपुर:हर इंसान अपने मोबाइल और इलेक्ट्रॉनिक डिवाइस से बहुत प्यार रहता हैं और हर वक़्त इनका इस्तेमाल करता रहता हैं। कभी भी फोन कम बैटरी के कारण बंद हो जाता हैं, तो चहरे पर निराशा आने लगती हैं। लेकिन जानते है कि एक ऐसी जगह है जहां फोन अपने आप ही बंद हो जाता हैं। यह कम बैटरी के कारण नहीं होता हैं, बल्कि यहां मोबाइल के साथ-साथ हर इलेक्ट्रॉनिक डिवाइस बंद हो जाता हैं। तो जानते हैं इस जगह के बारे में।

मेक्सिको में एक जगह है जहां आकर इलेक्ट्रॉनिक डिवाइस काम करना बंद कर देते हैं। इस जगह का नाम जोन ऑफ साइलेंस है यहां किसी भी तरह की रेडिया फ्रीक्वेंसी काम नहीं करती हैं। इस जगह का नाम जोन ऑफ साइलेंस(Zone of Silence 1966) तब रखा गया जब एक ऑइल कंपनी यहां तेल की खोज में आई थी। कंपनी के लोगों ने जब इस 50 किमी के क्षेत्र पर रिसर्च करना शुरू की तो वे बहुत परेशान हो गए क्योंकि उन सारे डिवाइस ने काम करना बंद कर दिया और उन्हें एक भी रेडियो सिग्नल नहीं मिल रहा था।इस जगह पर इलेक्ट्रॉनिक्स के फेल होने पर तब रिसर्च की गई जब यहां से गुजर रहा एक अमेरिका का टेस्ट रॉकेट धराशाई हो गया। साइंटिस्ट जब इस जगह पर पहुंचे तो यहां जीपीएस और डायरेक्शन कंपस चकरी की तरह घूमने लग गए।

बगीचे के पौधों का ये प्लांट है बॉडीगार्ड,जानिए इसमें कितने गुणों का है भंडार

मैपीमी साइलेंट जोन, मैरिमि बायोस्फीयर रिजर्व को ओवरलैप करने, मेक्सिको के डुरंगो में बोल्सन डे मैपिम के पास एक रेगिस्तान पैच के लिए लोकप्रिय नाम है। यह शहरी मिथक का विषय है जो दावा करता है कि यह एक ऐसा क्षेत्र है जहां रेडियो सिग्नल और किसी भी प्रकार के संचार प्राप्त नहीं किए जा सकते हैं।ये जगह मेक्सिको में चिहुआहुआ रेगिस्तान के नाम से जानी जाती है। आज तक ये पहेली कोई नहीं जान पाया है कि आखिर यहां आकर इलेक्ट्रॉनिक डिवाइस काम करना क्यों बंद कर देते हैं। इसके अलावा भी इस जगह को लेकर कई बातें कही जाती

यहां कई मेटेरोइड गिरे थे। पहला मेटेरोइड यहाँ 1938 में और दूसरा 1954 में इस जगह से टकराया था। इसके बाद यहाँ के रहवासी इस जगह में कुछ अजीबो गरीब होने वाली हरकतों का दावा करते रहते है।

suman

suman

Next Story