Top

ताज महोत्सव: मोहित के गानों पर झूमे लोग, दिखी कई संस्कृतियों की झलक

Admin

AdminBy Admin

Published on 19 Feb 2016 6:57 AM GMT

ताज महोत्सव: मोहित के गानों पर झूमे लोग, दिखी कई संस्कृतियों की झलक
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

आगरा: गुरुवार की शाम मोहब्बत के नाम रही प्रेम की नगरी । गवाह बने ताजमहल और यहां की जनता। ताज महोत्सव जब मोहित चौहान के प्यार के नग्मों से शुरू हुई तो रंगबिरंगी लाइटों से सजी सुरमयी शाम को इनके सुरो ने और भी जवां कर दिया और देर रात तक लोग उनके गाने पर झूमते नजर आए।

सिल्वर जुबली महोत्सव

-हर साल की तरह इस साल भी ताज महोत्सव मनाया जा रहा है

-लेकिन इस बार की खासियत है कि महोत्सव ने 25 साल पूरे किए है।

-सिल्वर जुबली महोत्सव में कई संस्कृतियों की झलक देखने को मिलेगी।

- पहले ही दिन शिल्पग्राम के मुक्तकाशीय मंच पर अलग- अलग रंग दिखाई दिए।

-महोत्सव में दर्शकों की भीड़ देखते ही बनी सबने इसका लुत्फ उठाया।

नीचे स्लाइड्स में देखिए ताज महोत्सव की झलक

[su_slider source="media: 10156,10152,10158,10154,10150,10157" width="620" height="440" title="no" pages="no" mousewheel="no" autoplay="0" speed="0"] [/su_slider]

मोहित ने लोगों को झुमाया

-महोत्सव की शुरुआत युवा दिलों की धड़कन बॉलीवुड सिंगर मोहित चौहान ने की।

-उन्होंने जैसे ही फिल्म रॉक स्टार का गाना 'जो भी मैं कहना चाहूं' शुरू किया।

- लोग रोमांटिक होकर मदमस्त झूमने लगे।

-'ये दूरिया' से माहौल को और भी रंगीन बना दिया।

- चारों तरफ से सारी रात वन्स मोर की आवाज आती रही।

-मोहित ने भी निराश नहीं किया, सारी रात रोमंटिक गानों के साथ लोगों का दिल बहलाया।

नीचे स्लाइड्स में देखिए ताज महोत्सव में मोहित के गानों पर लोगों की भीड़ के साथ उनके अंदाज-ए- बयां

[su_slider source="media: 10153,10148,10149,10157,10155" width="620" height="440" title="no" pages="no" mousewheel="no" autoplay="0" speed="0"] [/su_slider]

Admin

Admin

Next Story