Top

नारी की तरह दिखने वाला एक ऐसा विचित्र फूल, जो फंसा प्रकृति और तकनीक के पेच में

आपने दुनिया में कई विचित्र तरह के पेड़-पौधे देखें होगें। लेकिन क्या आपको मालूम है कि एक ऐसा फूल है जो नारी के आकार की तरह है। यह एक ऐसा दुर्लभ फूल है, जो शायद पेड़ों पर लटकी हुई गुड़िया की तरह प्रतीत होता है। यह फूल भारत के हिमालय क्षेत्रों में खिलने वाला 'नारीलता' है, जो आजकल सोशल मीडिया पर छाया हुआ है।

priyankajoshi

priyankajoshiBy priyankajoshi

Published on 30 April 2017 3:41 PM GMT

नारी की तरह दिखने वाला एक ऐसा विचित्र फूल, जो फंसा प्रकृति और तकनीक के पेच में
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

लखनऊ : आपने दुनिया में कई विचित्र तरह के पेड़-पौधे देखें होगें। लेकिन क्या आपको मालूम है कि एक ऐसा फूल है जो नारी के आकार की तरह है। यह एक ऐसा दुर्लभ फूल है, जो शायद पेड़ों पर लटकी हुई गुड़िया की तरह प्रतीत होता है। यह फूल भारत के हिमालय क्षेत्रों में खिलने वाला 'नारीलता' है, जो आजकल सोशल मीडिया पर छाया हुआ है।

नारीलता अब विवादों में

दरअसल, इस फूल की बनावट बिना कपड़ों वाली लड़की की तरह है। जिस कारण से इसकी तस्वीरें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर आकर्षण का केंद्र बनी हुई है। ये नारीलता फूल नारी की तरह दिखने की वजह से काफी विवादों में भी घिरा है।

कुछ मान रहे शैतानी दिमाग की उपज

कुछ लोगों को मानना है कि यह शैतानी दिमाग की उपज है। इसे किसी कंप्यूटर सॉफ्टवेयर की मदद से बनाया गया है। जबकि कुछ लोगों का कहना है कि ये फूल श्रीलंका के तटीय इलाकों में पाया जाता है।

दुनियाभर में जाना जाता अनेक नामों से

सोशल मीडिया की जानकारी के अनुसार ये फूल हिमालय के क्षेत्र में पूरे 20 साल बाद उगता है। कहा जाता है कि हारबेरिया की सभी प्रजातियों के फूल ट्यूबर युक्त स्थलीय ऑर्किड होते हैं। ये श्रीलंका में लियाथाबरा माला नाम से जाना जाता है। इस फूल की 10 प्रजातियां है। वहीं थाईलैंड में इस फूल को नारीपोल के नाम से जाना जाता है।

आगे की स्लाइड्स में देखें संबंधित फोटोज...

priyankajoshi

priyankajoshi

इन्होंने पत्रकारीय जीवन की शुरुआत नई दिल्ली में एनडीटीवी से की। इसके अलावा हिंदुस्तान लखनऊ में भी इटर्नशिप किया। वर्तमान में वेब पोर्टल न्यूज़ ट्रैक में दो साल से उप संपादक के पद पर कार्यरत है।

Next Story