Top

Video: कोयले की खान से निकला हीरा,जेल के इस कैदी का हुनर है काबिल-ए-तारीफ

जेल में रहकर सजा काटने वाले कैदी अक्सर समाज की मुख्य धारा से अपने आप को अलग मानकर एक ऐसी गुमनामी की जिंदगी जीने को आदी हो जाते है.जिसमे न कोई रिश्ता मायने रखता है न कोई उम्मीद रहती है ,न कोई ख्वाहिशे बचती है और जीवन जीने का न कोई उद्देश्य बचता है.लेकिन जेल में पिछले 15 साल से बंद एक ऐसे कैदी ने इस बात को गलत साबित किया है जिसने जेल में 15 साल से सजा काटने के बाद भी खुद को समाज की मुख्य धारा में जोड़े रखा ।

priyankajoshi

priyankajoshiBy priyankajoshi

Published on 28 Oct 2016 7:19 AM GMT

Video: कोयले की खान से निकला हीरा,जेल के इस कैदी का हुनर है काबिल-ए-तारीफ
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

murtiyaa

आगरा: जेल में रहकर सजा काटने वाले कैदी अक्सर समाज की मुख्य धारा से अपने आप को अलग मानकर एक ऐसी गुमनामी की जिंदगी जीने को आदी हो जाते है.जिसमे न कोई रिश्ता मायने रखता है न कोई उम्मीद रहती है ,न कोई ख्वाहिशे बचती है और जीवन जीने का न कोई उद्देश्य बचता है.लेकिन जेल में पिछले 15 साल से बंद एक ऐसे कैदी ने इस बात को गलत साबित किया है जिसने जेल में 15 साल से सजा काटने के बाद भी खुद को समाज की मुख्य धारा में जोड़े रखा ।

जहाँ देश भर में हिन्दू मुस्लिम को लेकर आए दिन कोई न कोई बहस जोरो पर है वही इस मुस्लिम कैदी ने हिंदू देवी देवताओं की अप्रितम मुर्तिया तैयार कर राष्ट्रवाद की नई परिभाषा लिखी है ।जी हां तस्वीर में आप जिस शख्स को हिन्दू देवी देवताओ की तस्वीर के साथ साथ तमाम तरह की आकर्षक मूर्तियां बनाता हुआ देख रहे है दरअसल इसका नाम फिरोज है जो 2001 में अपहरण के मामले में आगरा के जिला कारागार में बंद हुआ ।जेल में बंद रहते हुए उसने एक ऐसा हुनर हासिल किया जिसने एकता ,अखंडता ,भाईचारा इन सबकी एक अद्भुत मिसाल पेश की है.जिसकी तारीफ करने के लिए शब्द कम पड जाए ।

साबुन से हिन्दू देवी देवताओ की एक से बढ़कर एक सुन्दर मुर्तिया बनाने के साथ साथ भारत माता की एक ऐसी मूर्ति बनाई जिसको देखने के लिए शासन प्रशासन के बड़े अधिकारी देखने पहुचे । जिस हुनर को पाने के लिए लोग लाखो खर्च करते है फिरोज ने उसी हुनर को जेल के अंदर ही कुछ समय में ही सीख लिया । फिरोज ने सपा मुखिया की साइकिल के साथ भी प्रतिमा बनायी थी जो के ताज महोत्सव में रखी गई थी ।

आगे की स्लाइड में पढ़ें फ़िरोज़ को कहा से आया मूर्तियां बनाने का आईडिया ...

froz

फिरोज ने बताया कि जब एक साथी ने जेल में दिए जाने बाले साबुन को नहाने के बाद जेल की दीवार पर चिपका दिया जो नवरात्रो में देवी की मूर्ति की तरह लगने लगा दीवार पर लगे सावुन की काल्पनिक देवी की मूर्ति को देखने के बाद फिरोज ने देवी माँ का व्रत रख माँ दुर्गे से खुद के हाथो में एक ऐसा हुनर माँगा जिसको देखने के बाद हर कोई हैरत में पड जाए ।जिला जेल से लेकर केंद्रीय कारागार में अपने हाथो के हुनर का लोहा मनबाने बाले कैदी फिरोज की बनाई हुई मूर्तियॉ को जिस किसी अधिकारी ने देखा उसने फिरोज की तारीफ करने में कोई कोर कसर नहीं छोड़ी हालाँकि जेल के अंदर जेल प्रशासन ने फिरोज की जमकर मदद की । वहीँ फिरोज हिन्दू मुस्लिम के बीच चल रही वैमनस्यता को ठुकराते हुए सिर्फ भाईचारे की बात करता है . और जेल में अन्य कैदियों को भी अपना हुनर सिखा रहा है।

किसी ने सच कहा है कि हुनर किसी का मोहताज नहीं होता।आज जेल में बंद होने के बावजूद भी फिरोज की प्रतिभा छुपी नहीं रही । आज फिरोज को एक कैदी के रूप में कम और एक कलाकार के रूप में ज्यादा जाना जाता है।

आगे की स्लाइड्स में देखें कुछ और फोटोज...

duja

del

rt

saf

saveing

आगे की स्लाइड में देखें वीडियो ...

priyankajoshi

priyankajoshi

इन्होंने पत्रकारीय जीवन की शुरुआत नई दिल्ली में एनडीटीवी से की। इसके अलावा हिंदुस्तान लखनऊ में भी इटर्नशिप किया। वर्तमान में वेब पोर्टल न्यूज़ ट्रैक में दो साल से उप संपादक के पद पर कार्यरत है।

Next Story