Top

Photos: ऐशबाग में शुरू हुआ रामलीला का कारवां,दर्शकों से गुलज़ार हुआ मैदान

आंधी-बारिश के चलते थमी हुई रामलीला का कारवां बुद्धवार से शुरू हो गया है। लखनऊ में जगह-जगह रामलीला का मंचन किया जा रहा है। ऐशबाग रामलीला मैदान में जहां श्री राम जी के वनगमन का मंचन हो रहा है वहीँ आलमबाग में सीता हरण के बाद वन में भटक रहे प्रभु राम की हनुमान और सुग्रीव से मुलाकात के प्रसंग हुए।

priyankajoshi

priyankajoshiBy priyankajoshi

Published on 7 Oct 2016 11:13 AM GMT

Photos: ऐशबाग में शुरू हुआ रामलीला का कारवां,दर्शकों से गुलज़ार हुआ मैदान
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

shalu2

लखनऊ:ऐशबाग की रामलीला भारत के सबसे हिस्टोरिक और प्राचीन रामलीलाओं में से एक है। कहा जाता है कि तुलसीदास द्वारा रामचरितमानस का सृजन करने के बाद उनके शिष्यों ने इस रामलीला की शुरुआत करीब तीन सौ वर्ष पहले हुई थी। ये गंगा-जमुनी तहजीब का प्रतीक भी है। नवाबों के शासन के दौर में ये रामलीला चलती आ रही है।19 वीं शताब्दी में श्रीरामलीला समिति ऐशबाग का पंजीकरण कराया गया था।

आंधी-बारिश के चलते थमी हुई रामलीला का कारवां बुद्धवार से शुरू हो गया है। लखनऊ में जगह-जगह रामलीला का मंचन किया जा रहा है। ऐशबाग रामलीला मैदान में जहां श्री राम जी के वनगमन का मंचन हो रहा है वहीँ आलमबाग में सीता हरण के बाद वन में भटक रहे प्रभु राम की हनुमान और सुग्रीव से मुलाकात के प्रसंग हुए।

आगे की स्लाइड्स में देखें ऐशबाग रामलीला की कुछ दिलचस्प फोटोज...

shalu3

shalu1

shalu

ramleela

ramleel

shalu6

shalu5

untitled-1

shalu7

shalu4

ये भी पढ़ें ... अड़ंगाः मोदी के आने से पहले ऐशबाग रामलीला का ढहा पंडाल, दौरे के खिलाफ याचिका

priyankajoshi

priyankajoshi

इन्होंने पत्रकारीय जीवन की शुरुआत नई दिल्ली में एनडीटीवी से की। इसके अलावा हिंदुस्तान लखनऊ में भी इटर्नशिप किया। वर्तमान में वेब पोर्टल न्यूज़ ट्रैक में दो साल से उप संपादक के पद पर कार्यरत है।

Next Story