Top

दलितों के घर से गायब हो रही मायावती, ये युवक ले रहा स्थान

Anoop Ojha

Anoop OjhaBy Anoop Ojha

Published on 7 Jun 2018 10:53 AM GMT

दलितों के घर से गायब हो रही मायावती, ये युवक ले रहा स्थान
X
दलितों के घर से गायब हो रही मायावती, ये युवक ले रहा स्थान
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

महेश कुमार शिवा

सहारनपुर: एक समय था जब बसपा सुप्रीमो मायावती का जादू दलितों के सिर चढ़कर बोलता था। दलितों के यहां होने वाले किसी भी तरह के कार्यक्रम में डा. अम्बेडकर के साथ साथ मायावती का फोटो भी दिखाई देता था। एक समय वह भी आया था, जब वैवाहिक और अन्य मांगलिक कार्यक्रमों के निमंत्रण पत्रों पर भी मायावती का फोटो दिखाई देता था, लेकिन अब परिवर्तन आ रहा है। धीरे धीरे शादी के कार्डों से मायावती का फोटो गायब होता जा रहा है और उनके स्थान पर एक ऐसा युवा स्थान ले रहा है, जो राजनीति में जरा भी सक्रिय नहीं है।

हमारे पास दलित परिवारों में हाल ही में संपन्न हुए शादी कार्ड प्राप्त हुए हैं, इन शादी कार्डों का अवलोकन करने के बाद चैंकाने वाली तस्वीर सामने नजर आई।यह युवक भीम आर्मी एकता मिशन का संस्थापक चंद्रशेखर उर्फ रावण है। चंद्रशेखर उर्फ रावण इन दिनों सहारनपुर की जिला जेल में बंद है, क्योंकि मई 2017 में सहारनपुर में हुए जातीय संघर्ष के बाद चंद्रशेखर रावण पर जातीय दंगा भड़काने का आरोप लगा था। चंद्रशेखर पर रासुका के तहत कार्रवाई की गई है, लेकिन इसके बावजूद चंद्रशेखर वेस्ट यूपी के दलितों की पहली पसंद बनता जा रहा है। इसका अंदाजा इसी से लगाया जा सकता है कि दलितों के यहां संपन्न होने वाले वैवाहिक कार्यक्रमों के निमंत्रण पत्र पर चंद्रशेखर का फोटो अपनी जगह बना रहा है।

हाल ही में 18 जून 2018 को ग्राम देवला निवासी सुरेश गौतम की शादी संपन्न हुई। सुरेश गौतम ने अपनी शादी के कार्ड को नया रूप देते हुए कार्ड के स्थान पर डाक्टर अंबेडकर की तस्वीर वाला एक कैलेंडर छपवाया। इस कैलेंडर पर एक ओर जहां महात्मा गौतम बुद्ध व डाक्टर नजर आ रहे हैं तो दूसरी ओर संत रविदास के नीचे चंद्रशेखर रावण का फोटो छपवाया गया है। इस कैलेंडर में बसपा सुप्रीमो कहीं पर भी नजर नहीं आ रही है।

एक अन्य शादी का कार्ड इलाहाबाद का है। इस कार्ड में नवयुगल को फूले, अंबेडकर, पेरियार, ललई व लोसिक की विरासत बताया गया है। शादी समारोह के कुछ फोटो में आप देख सकते है कि डाक्टर अंबेडकर के चित्र अथवा प्रतिमा को रखकर शादी समारोह संपन्न कराए जा रहे है। इससे एक बात तो साफ हो रही है कि भीम आर्मी का संस्थापक चंद्रशेखर दलितों के दिलों में अपनी जगह बना रहा है।

Anoop Ojha

Anoop Ojha

Excellent communication and writing skills on various topics. Presently working as Sub-editor at newstrack.com. Ability to work in team and as well as individual.

Next Story