Top

सोशल मीडिया वॉलिंटियर मीट : विचारधारा से जुड़े लोगों को जोड़ने की कवायद

Charu Khare

Charu KhareBy Charu Khare

Published on 3 July 2018 6:50 AM GMT

सोशल मीडिया वॉलिंटियर मीट : विचारधारा से जुड़े लोगों को जोड़ने की कवायद
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

लखनऊ : भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह बुधवार को वाराणसी में सोशल मीडिया वॉलिंटियर सम्मेलन को संबोधित करेंगे। भाजपा सोशल मीडिया के माध्यम से ऐसे लोगों को जोड़ने में जुटी हुई है, जो पार्टी की विचारधारा को मानते हैं। सेल से जुड़े लोगों का दावा है कि आगामी लोकसभा चुनाव से पहले पार्टी के प्रचार प्रसार और पार्टी की विचारधारा को फैलाने में फेसबुक, ट्विटर ओर वॉट्सएप काफी कारगर हथियार साबित हो सकते हैं।

उप्र भाजपा इकाई का आईटी विभाग चार जुलाई को आयोजित होने वाले सोशल मीडिया वॉलिंटियर मीट की तैयारी में जुटा हुआ है। सोशल मीडिया वॉलिंटियर मीट वाराणसी में संपन्न होगी। उप्र भाजपा आईटी विभाग के प्रदेश प्रमुख संजय राय ने इसकी जानकारी दी।

उन्होंने बताया कि सोशल मीडिया वॉलिंटियर मीट में उन लोगों को आमंत्रित किया गया है जो सोशल मीडिया के विभिन्न प्लेटफॉर्म पर सक्रिय हैं और भाजपा और उसकी विचारधारा के पुरजोर समर्थक हैं।

राय ने बताया, "इस मीट में आने के लिए कोई भी वॉलिंटियरऑनलाइन पंजीकरण कराकर शामिल हो सकता है। भाजपा के आईटी विभाग द्वारा ऑनलाइन पंजीकरण कराया गया है जिन लोगों ने भी दो जुलाई तक अपना पंजीकरण कराया है, वे इस मीट में भाग ले सकेंगे।

राय ने दावे के साथ कहा कि वाराणसी में होने वाले सोशल मीडिया वॉलिंटियर मीट में लगभग 2000 लोग भाग लेंगे। सोशल मीडिया पर भाजपा का पक्ष रखने वाले सक्रिय वालंटियर्स को पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष संबोधित करेंगे।

उन्होंने बताया कि कार्यक्रम का उद्देश्य भाजपा एवं उसकी विचाराधारा से जुड़े उन लोगों से संपर्क करना है जो पार्टी के कार्यकर्ता नहीं है लेकिन विचारधारा के समर्थक जरूर हैं और स्वैच्छिक रूप से सोशल मीडिया पर भाजपा एवं उसकी विचारधारा का समर्थन करते हैं।

राय ने बताया कि पार्टी की ये योजना है कि सोशल मीडिया पर सक्रिय भाजपा समर्थकों से संपर्क कर उनके माध्यम से सरकार एवं पार्टी की योजनाओं का विस्तार किया जाए।

Charu Khare

Charu Khare

Next Story