Top

VIDEO: जिनके हाथ नहीं वो भी चला पाएंगे बाइक, नौवीं फेल शख्स का कमाल

Admin

AdminBy Admin

Published on 27 March 2016 10:30 AM GMT

VIDEO: जिनके हाथ नहीं वो भी चला पाएंगे बाइक, नौवीं फेल शख्स का कमाल
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

मेरठः उत्तर प्रदेश के छोटे से जनपद मुज़फ्फरनगर के नौवीं फेल रईस वैल्डर ने विकलांग युवाओं के लिए बाइक का निर्माण किया है। अपने दिमाग की उपज और हाथों के हुनर से अपनी पहचान बनाने वाले रईस सबसे पहले चाइल्ड जीप का निर्माण कर सबको हैरत में डाल दिया था। अब इस देसी इंजिनियर ने जिनके हाथ नहीं हैं, उनके लिए बाइक का निर्माण किया है।

anish

बैटरी से चलेगी ये अनोखी बाइक

इस बाइक की खासियत है कि ये पेट्रोल या डीजल से नहीं बल्कि बैटरी से चलने वाली अनोखी बाइक है। इसका स्टेरिंग हाथों से नहीं पैरो से संचालित किया जायेगा साथ ही एक्सीलेटर और ब्रेक भी पैरों से ही काम करेंगे। यह बाइक एक घंटे में 40 किलोमीटर तक का सफर तय करेगी। 6 घंटे तक लगातार इसे चार्ज करने के बाद 70 किलोमीटर तक चलाया जा सकता है।

anish-velder

क्या कहते हैं रईस?

इस बाइक को बनाने में उन्हें तीन महीने और 20 हजार का खर्च आया है। वैसे तो इस बाइक को कोई भी आदमी आसानी से चला सकता है, लेकिन ये बाइक हाथों से अपंग लोगों को ध्यान में रख कर बनाई गयी है। जब यह बाइक नगर की सड़को पर चलती है तो देखने वालो की भीड़ जमा हो जाती है। रईस की ये पहली बाइक है, अगर कोई कंपनी फिजिकल चैलेंज लोगों के लिए इस तरह के वाहन बनाना चाहे तो वो उसके लिए डिजाइन तैयार करंगे।

हम वेल्डिंग का काम करते हैं। कक्षा 9 में फेल होने के बाद मैं अपने पिता के साथ दुकान पर काम करने लगा था। मेरा पढ़ाई में कम और दुकान में ज्यादा मन लगता था। मैंने कभी कोई डिप्लोमा या ITI नहीं किया। मैं अब तक 24 वाहन बना चूका हूं, जिसमें चाइल्ड जीप, बेबी कार, मिनी बाइक और कई वाहन हैं। मुझे बच्चों से बहुत प्यार है, इसलिए ज्यादातर बच्चों के लिए गाड़ियां बनाई हैं।

anish1

विकलांग युवाओं के लिए बनाई बाइक

मैं विकलांगो के स्कूटर में साइड सपोट के लिए पहिये लगाता था। मुझे ख्याल आया की इनके लिए कुछ अलग बनाया जाये। हमने बिना हाथ वालों के लिए तीन पहियों वाली एक पैडल वाली गाड़ी बनाई। जिसे पैरों से ही चलाया जा सकता है और पैरो से कंट्रोल किया जा सकता है। ब्रेक, स्पीड और हैंडिल सभी पैरो से कंट्रोल होता है। गाड़ी की चौड़ाई मात्र दो फुट है जो घर के किसी भी कोने में बड़ी आसानी से जा सकती है। अगर कोई कंपनी या सरकार मेरा सहयोग करे तो मैं इससे भी बढ़िया अविष्कार कर सकता हूं। मुझे गर्व है कि मैं एक इंडियन हूं और इंडिया के लिए नए नए अविष्कार करता रहूंगा। अगर सरकार सहयोग करे तो मैं प्रतिदिन 40 वाहन बना सकता हूं। अभी तक मैंने किसी भी गाड़ी का पैटन नहीं कराया है। लेकिन चाहता हूं कि मेरी गाड़ियों का पैटन मिल जाये।

anis2

क्या कहते हैं रईस के पिता?

वहीं उनके पिता जो खुद भी किसी बड़े इंजिनियर से कम नहीं है और बेटे की तरह इन्होंने भी कई छोटी गाड़ियां बनाकर जनपद का गौरव बढ़ाया है। उनका कहना है कि मैं वेल्डिंग का काम बचपन से करता हूं। 14 साल अपने उस्ताद के पास काम सीखा और अब अपना खुद का काम करता हूं। मैंने कोई कोर्स नहीं किया और ना ही कभी स्कूल गया अनपढ़ आदमी हूं, दिमाग रखता हूं। मैंने कई फैक्ट्रियों में काम किया है। मेरा एक पोता है वो बोलता था की दादा जी मुझे छोटी बाइक बनाकर दो। मुझे वहीं से छोटी गाड़ियां बनाने की प्रेरणा मिली। मैंने छोटी बाइक, चाइल्ड जीप और कई मिनी गाड़ियां बनाई है। छोटी गाड़ी की खासियत ये है की इन्हे कोई भी खरीद सकता है ।

anish-jip

Admin

Admin

Next Story