Top

होली है: एक बार फिर मुंह का स्वाद बढ़ाने को तैयार यूपी की सबसे महंगी सोने वाली गुझिया

By

Published on 9 March 2017 8:48 AM GMT

होली है: एक बार फिर मुंह का स्वाद बढ़ाने को तैयार यूपी की सबसे महंगी सोने वाली गुझिया
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

gold-gujhiya2

लखनऊ: होली कि तैयारियां जोरों पर है। शहर के बाजारों में भी होली की रंगत नजर आने लगी है। मिठाई की दुकानों पर तरह-तरह की गुझिया बनने लगी हैं। इस बार की होली के लिए लखनऊ में सबसे महंगी गुझिया तैयार हुई है, जिसकी कीमत चुकाना आम इंसान के बस की बात नहीं है। सोने का वर्क चढ़ी ये गुझिया लखनऊ में 45 हजार रुपए किलो बिक रही है।

आगे की स्लाइड में जानिए सोने की गुझिया की खासियत

gold-gujhiya2

एक किलो मिठाई के कीमत की एक गुझिया: नवाबी शहर के नवाबी अंदाज को ध्यान में रखते हुए पिस्ते, केसर और चिलगोजे से तैयार की गई इस खास गुझिया में से एक यदि आप चखना चाहते हैं, तो करीब 700 रुपए चुकाने होंगे। इस एक गुझिया की कीमत एक किलो मिठाई के दाम से भी महंगी है। ख़ास बता तो यह है कि ये गुझियां एक महीने तक रखकर खाई जा सकती हैं। ये जल्दी खराब नहीं होती हैं।

आगे की स्लाइड में जानिए कितने टाइम में तैयार होती है यह स्पेशल गुझिया

gold-gujhiya2

12 से 13 घंटे में होती है तैयार

-पिस्ते, केसर और चिलगोजे की इस गुझिया को लखनऊ के कारीगरों ने तैयार किया है।

-सोने की इस गुझिया को बनाने में 12 से 13 घंटे लगते हैं।

-गुझिया को बनाने के बाद इस पर सोने का वर्क चढ़ाया जाता है।

आगे की स्लाइड में जानिए और क्या ख़ास है इन सोने की गुझिया में

gold-gujhiya2

हेल्थ का भी रखा गया है ख्याल: इस सोने का वर्क चढ़ी गुझिया को बनाने में स्वास्थ्य का भी खास ख्याल रखा गया है। इस विशेष गुझिया में कैलोरी की मात्रा भी काफी कम रखी गई है। इसलिए हेल्थ के लिहाज से भी ये गुझिया नुकसानदायक नहीं है।

आगे की स्लाइड में देखिए गुझिया खरीदने के लिए लगी भीड़

gold-gujhiya2

खास अपनों के लिए है ये गुझिया: बाजार में नमकीन और गुझिया से सजे कई गिफ्ट पैक भी मौजूद हैं। लेकिन खरीददारों की जुबां पर इस सोने की गुझिया का जिक्र और आंखों में इसे देखने की ख्वाहिश जरूर होती है क्योंकि ये गुझिया खास तौर पर अपनों के लिए बनाई गई है।

Next Story