Top

विश्व नींद दिवस स्पेशलः घट गई नींद, बायोलॉजिकल क्लॉक के लिए जरूरी है सो ना

बीते दस सालों में लोगों की औसत नींद में कमी आयी है। डा.वर्मा के मुताबिक नींद के लिए यह जरूरी नहीं कि आप कितने घंटे सोये हैं बल्कि यह जरूरी है कि नींद कितनी अच्छी आयी है। अच्छी नींद का मतलब सुबह के समय जब नींद से कोई व्यक्ति उठता है तो वह कितना फ्रेश महसूस करता है।

Newstrack

NewstrackBy Newstrack

Published on 19 March 2021 3:28 AM GMT

विश्व नींद दिवस स्पेशलः घट गई नींद, बायोलॉजिकल क्लॉक के लिए जरूरी है सो ना
X
Specific information on World Sleep Day, decreased sleep, sleep is necessary for biological clock
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

लखनऊ। मेलाटोनिन हार्मोन शरीर में पीनियल ग्लैंड से रिलीज होता है। यह हार्मोन शरीर के बायोलॉजिकल क्लॉक को नियंत्रित करता है। बायोलॉजिकल क्लॉक शरीर में प्रतिरोधक क्षमता को बरकरार रखने के साथ ही सोचने समझने की शक्ति को बेहतर बनाता है। यह कहना है केजीएमयू के प्रो.नरसिंह वर्मा का।

डा.नरसिंह वर्मा के मुताबिक दिन में सूर्य की रोशनी से मेलाटोनिन हार्मोन का निर्माण होता है,लेकिन रात के समय यह हर्मोन सक्रिय होता है। यह हार्मोन शरीर के लिए बहुत ही जरूरी हार्मोन होता है,इसके अनियंत्रित होने पर पूरा बायोलॉजिकल क्लॉक गड़बड़ा जाता है। इसलिए रात के समय व्यक्ति को भरपूर व बेहतर नींद लेनी चाहिए।

औसत नींद में आयी कमी

बीते दस सालों में लोगों की औसत नींद में कमी आयी है। डा.वर्मा के मुताबिक नींद के लिए यह जरूरी नहीं कि आप कितने घंटे सोये हैं बल्कि यह जरूरी है कि नींद कितनी अच्छी आयी है। अच्छी नींद का मतलब सुबह के समय जब नींद से कोई व्यक्ति उठता है तो वह कितना फ्रेश महसूस करता है। यदि आप तरोताजा महसूस कर रहे हैं,तो समझिये कि आप अच्छी नींद ले चुके हैं।

Specific information on World Sleep Day, decreased sleep, sleep is necessary for biological clock विश्व नींद दिवस पर विशेष जानकारी फोटो सोशल मीडिया

अच्छी नींद के लिये यह है जरूरी

डा.नरसिंह वर्मा के मुताबिक अच्छी नींद के लिए अंधेरा होना जरूरी है। शोर शराबा बिलकुल भी नहीं होना चाहिए। इसके अलावा सोने से करीब चार घंटे पहले व्यक्ति को भोजन कर लेना चाहिए। इतना ही नहीं रात में सोते समय पानी का सेवन नहीं करना चाहिए। उन्होंने बताया कि यदि रात के समय आप सोने से पहले पानी पीते है,तो यूरीन ब्लेडर फुल हो जायेगा और नींद टूट जायेगी। इसके अलावा सोते समय ढीले कपड़े पहनने चाहिए। इतना ही नहीं सोते समय लेटने के तरीके पर भी ध्यान देना जरुरी है। उन्होंने कहा कि यदि करवट लेकर लेटा जाये,तो ज्यादा बेहतर होगा।

किसे कितनी देर सोना चाहिए-

नवजात को १६ घंटे।

४ से ५ वर्ष के बच्चों को १४ घंटे।

किशोर को करीब दस घंटे।

वयस्क को छह से आठ घंटे।

बुजुर्ग करीब छह घंटे।

डा.वर्मा के मुताबिक अच्छी ग्रोथ के लिए ग्रोथ हार्मोन की जरूरत होती है। यह हार्मोन सोते समय ही बनता है। उन्होंने बताया कि जब बच्चे का जन्म होता है,तो उसे ग्रोथ हार्मोन की जरूरत होती है। जो अच्छी नींद नहीं लेते हैं उनकी नींद ग्रोथ अच्छी नहीं होती है। इसके अलावा उन्होंने बताया कि खराब नींद का असर शरीर के अंगो पर भी होता है।

रिपोर्ट वीरेंद्र पांडे

Newstrack

Newstrack

Next Story