Top

इस यूनिवर्सिटी में लगी जोड़े में बैठने पर रोक, पेरेंट्स को था ऐतराज

shalini

shaliniBy shalini

Published on 18 May 2016 7:01 AM GMT

इस यूनिवर्सिटी में लगी जोड़े में बैठने पर रोक, पेरेंट्स को था ऐतराज
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

लाहौर: पाकिस्‍तान की एक यूनिवर्सिटी में परंपराओं की संस्कृति को जीवित रखने के लिए लड़के और लड़कियों के एक साथ बैठने पर रोक लगा दी है। सरगोधा यूनिवर्सिटी लाहौर परिसर में सोमवार को जारी हुए एक नोटिस में ये आदेश जारी किया गया। इसमें कहा गया कि कोई भी अब स्टूडेंट क्‍लास, कैंटीन या पूरी यूनिवर्सिटी में जोड़े में नहीं बैठेगा।

क्‍या कहती है नोटिस

-इस नोटिस में कहा गया कि यूनिवर्सिटी में लड़के-लड़कियों को एक साथ जोड़े में बैठना और घूमना इस्‍लामिक कल्‍चर के खिलाफ है।

-यूनिवर्सिटी के अनुसार स्‍टूडेंट्स के बीच होने वाले बेवजह के अट्रैक्‍शन को रोकने के लिए यह नोटिस जारी किया गया है।

-जारी किए गए नोटिस में साफ-साफ लिखा गया है कि अगर कोई भी लड़का-लड़की इस नियम को तोड़ता पाया गया।

lahore pakistan प्रतीकात्मक फोटो

-तो इसकी शिकायत उसके परिवारवालों से की जाएगी।

-इतना ही नहीं यूनिवर्सिटी में भी उसके खिलाफ सख्‍त कार्रवाई की जाएगी।

-ग्रुप डिस्कशन के लिए भी केवल तीन से चार लोग एकसाथ बैठ सकते हैं।

क्‍या है यूनिवर्सिर्टी के डायरेक्‍टर का कहना

-सरगोधा यूनिवर्सिटी के डायरेक्‍टर मियां जावेद का कहना है कि ये यूनिवर्सिर्टी में यह रोक पैरेंट्स के कहने पर ही लगाई गई है।

-उनका कहना है कि क्‍लास से लेकर पूरी यूनिवर्सिर्टी में लड़के-लड़कियों के साथ बैठने से लेकर घूमने-फिरने से पैरेंट्स को ही आपत्ति थी।

-इसलिए यूनिवर्सिर्टी ने यह कदम उठाया है।

-साथ ही वे यह भी कहते हैं कि इस्‍लामिक कल्‍चर में इस तरह से वेस्‍टर्न कल्‍चर को बढ़ावा देने से हमारी संस्‍कृति का अपमान होता है।

lahore pak sargodha university प्रतीकात्मक फोटो

shalini

shalini

Next Story