Top

ब्रिटेन के 10 और पीएम की कतार में इस वजह से शामिल हुईं थेरेसा

Rishi

RishiBy Rishi

Published on 11 July 2016 10:34 PM GMT

ब्रिटेन के 10 और पीएम की कतार में इस वजह से शामिल हुईं थेरेसा
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

लंदनः थेरेसा मे ब्रिटेन की दूसरी महिला पीएम बनने जा रही हैं। इससे पहले 1979 में मार्गरेट थैचर ब्रिटेन की पीएम बनी थीं। साथ ही वह 1916 से कार्यकाल के बीच में ही पीएम का पद संभालने वाली 11वीं नेता भी हैं। इस बीच, थेरेसा मे ने देश को बेहतर बनाने का वादा किया है।

बीच कार्यकाल में ये भी बने ब्रिटिश पीएम

-गॉर्डन ब्राउन 2007, जॉन मेजर 1990 और जेम्स कलाहान 1976 में बने पीएम।

-सर एलेक डगलस होम 1963, हैरल्ड मैकमिलन 1957, सर एंथनी ईडन 1955 में बने थे पीएम।

-1940 में विंस्टन चर्चिल, 1937 में नेविले चैंबरलेन, 1935 और 1923 में स्टेनले बॉल्डविन बने थे ब्रिटिश पीएम।

-1916 में डेविड लॉयड जॉर्ज ने संभाली थी ब्रिटिश पीएम की कुर्सी।

थेरेसा ने क्या कहा?

-यूरोपीय यूनियन से ब्रिटेन के बाहर जाने को सफल करके ही दम लेंगी।

-डेविड कैमरन की जगह पीएम बनने पर खुद को खुशनसीब बताया।

-थेरेसा मे ने कहा कि कैमरन ने देश को नई ऊंचाई पर ला दिया है।

कैमरन ने क्या कहा?

-थेरेसा मे के पीएम चुने जाने पर डेविड कैमरन ने खुशी जताई।

-मंगलवार को आखिरी कैबिनेट मीटिंग करूंगा, फिर संसद में सवालों के जवाब दूंगा।

-संसद से ब्रिटिश महारानी के पास जाऊंगा और अपना इस्तीफा दूंगा।

-थेरेसा मे काफी ताकतवर हैं और ब्रिटेन को शानदार नेतृत्व दे सकती हैं।

Rishi

Rishi

आशीष शर्मा ऋषि वेब और न्यूज चैनल के मंझे हुए पत्रकार हैं। आशीष को 13 साल का अनुभव है। ऋषि ने टोटल टीवी से अपनी पत्रकारीय पारी की शुरुआत की। इसके बाद वे साधना टीवी, टीवी 100 जैसे टीवी संस्थानों में रहे। इसके बाद वे न्यूज़ पोर्टल पर्दाफाश, द न्यूज़ में स्टेट हेड के पद पर कार्यरत थे। निर्मल बाबा, राधे मां और गोपाल कांडा पर की गई इनकी स्टोरीज ने काफी चर्चा बटोरी। यूपी में बसपा सरकार के दौरान हुए पैकफेड, ओटी घोटाला को ब्रेक कर चुके हैं। अफ़्रीकी खूनी हीरों से जुडी बड़ी खबर भी आम आदमी के सामने लाए हैं। यूपी की जेलों में चलने वाले माफिया गिरोहों पर की गयी उनकी ख़बर को काफी सराहा गया। कापी एडिटिंग और रिपोर्टिंग में दक्ष ऋषि अपनी विशेष शैली के लिए जाने जाते हैं।

Next Story