Top

VIDEO: हाथ से नहीं पैर से करती है पढ़ाई-सिलाई, जज बनने की है तैयारी

Rishi

RishiBy Rishi

Published on 9 May 2016 11:43 AM GMT

VIDEO: हाथ से नहीं पैर से करती है पढ़ाई-सिलाई, जज बनने की है तैयारी
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

मुजफ्फरनगरः कौन कहता है आसमां में सुराख हो नहीं सकता, एक पत्थर तो तबीयत से उछालो यारों...इसी को हकीकत में बदला है शाहपुर के कसेरवा गांव की हलीमा ने। बिना हाथों के पैदा हुई हलीमा ने मुश्किलों को अपने जज्बे से आसान बना लिया। बीए पास हलीमा ने दिखा दिया कि चाह हो तो राह मिलनी मुश्किल नहीं है।

घरवाले थे निराश, युवती ने दिखाया हौसला

हलीमा जब पैदा हुई, तो उसके हाथ नहीं थे। ये देखकर घरवाले निराश थे। बच्ची की जिंदगी किस तरह कटेगी, ये उन्हें समझ नहीं आ रहा था। हलीमा जब बड़ी हुई तो अपनी इस शारीरिक कमी की वजह से घरवालों को निराश पाया। तभी उसने तय किया कि हर हाल में इस कमी पर जीत हासिल करनी है और इसके साथ ही उसने अपनी राह खुद बनानी शुरू कर दी।

पैर से मोबाइल फोन चलाती हलीमा पैर से मोबाइल फोन चलाती हलीमा

पैरों से करना शुरू किया काम

हलीमा ने हाथों की कमी को पैरों से दूर करना शुरू किया। पहले उसे दिक्कतें होती थीं, लेकिन उसने हिम्मत नहीं हारी। हिम्मत होने पर मर्दों ही नहीं, औरतों की मदद भी खुदा करता है, ये दिखाने की उसने ठान ली। पैरों से पेंसिल पकड़ी। फिर हैंडपंप से पानी भरने लगी। लोगों ने प्रोत्साहित किया तो पैरों से कपड़ों पर प्रेस करना शुरू किया। फिर मोबाइल भी चलाने लगी।

जज बनना चाहती है हलीमा

सिलाई मशीन पर भी आजमाया हुनर

कई काम हलीमा जब अपने पैरों से करने लगी, तो उसने सबसे कठिन काम को अपने पैरों से आजमाने की सोची। उसने सिलाई मशीन की सुई में पैरों से ही धागा पिरोने की प्रैक्टिस शुरू कर दी। शुरू में दिक्कत आई, लेकिन हलीमा ने कोशिश जारी रखी और एक दिन आया, जब ऐसा करने में भी उसे महारत हासिल हो गई।

पैर से सिलाई मशीन की सुई में धागा पिरोती हलीमा पैर से सिलाई मशीन की सुई में धागा पिरोती हलीमा

बनना चाहती है जज

हलीमा ने बीए का इम्तिहान पास किया है। वह श्रीराम कॉलेज से एलएलबी की पढ़ाई कर रही है। इसमें भी उसे दिक्कतों से दो-चार होना पड़ा। फीस जमा न करने की वजह से उसका फॉर्म जमा करने से कॉलेज ने मना कर दिया, लेकिन हलीमा का हौसला देखकर आखिर में फीस माफ कर दी। हलीमा अब जज बनकर पीड़ितों को न्याय देना चाहती है। वह कहती है कि सीएम अखिलेश यादव से कुछ मदद मिले, तो अपना सपना साकार करने में उसे आसानी होगी।

कई लड़कियों को दे रही है शिक्षा

हलीमा का हौसला देखकर गांव के लोग तो उसकी तारीफ के पुल बांधते ही हैं, गांव की अन्य लड़कियों को भी उसने प्रेरणा दी है। लड़कियां उसके पास आती हैं और पढ़ाई करती हैं। हलीमा भी अपने पास मौजूद ज्ञान बांटने में कोई कसर नहीं रखतीं। विद्या ददाति विनयम्...यानी विद्या से व्यक्ति विनयी होता है, इसे उसने अपना आदर्श बना लिया है।

Rishi

Rishi

आशीष शर्मा ऋषि वेब और न्यूज चैनल के मंझे हुए पत्रकार हैं। आशीष को 13 साल का अनुभव है। ऋषि ने टोटल टीवी से अपनी पत्रकारीय पारी की शुरुआत की। इसके बाद वे साधना टीवी, टीवी 100 जैसे टीवी संस्थानों में रहे। इसके बाद वे न्यूज़ पोर्टल पर्दाफाश, द न्यूज़ में स्टेट हेड के पद पर कार्यरत थे। निर्मल बाबा, राधे मां और गोपाल कांडा पर की गई इनकी स्टोरीज ने काफी चर्चा बटोरी। यूपी में बसपा सरकार के दौरान हुए पैकफेड, ओटी घोटाला को ब्रेक कर चुके हैं। अफ़्रीकी खूनी हीरों से जुडी बड़ी खबर भी आम आदमी के सामने लाए हैं। यूपी की जेलों में चलने वाले माफिया गिरोहों पर की गयी उनकी ख़बर को काफी सराहा गया। कापी एडिटिंग और रिपोर्टिंग में दक्ष ऋषि अपनी विशेष शैली के लिए जाने जाते हैं।

Next Story