Top

इस मंदिर में मुस्लिम भी झुकाते हैं सिर, फ्री में मिलता है सभी को इलाज

Admin

AdminBy Admin

Published on 26 March 2016 8:44 AM GMT

इस मंदिर में मुस्लिम भी झुकाते हैं सिर, फ्री में मिलता है सभी को इलाज
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

गाजियाबाद: हाई टेक्नोलॉजी के इस युग में चेचक जैसी बीमारी के इलाज के लिए डॉक्टर भी हाथ खड़े कर देते हैं। वहीं, केसरी माता मंदिर में हिंदू-मुस्लिम और दूसरे समुदायों के लोग भी इलाज के लिए आते हैं। इस मंदिर में गंगा जमुनी तहजीब आज भी देखने को मिलती है। यहां हिंदुओं के साथ मुस्लिम भी दवाई लेने से पहले माता शीतला के सामने शीश झुकाते हैं।

temple

निशुल्क किया जाता है इलाज

-मेरठ रोड के लोहिया नगर कॉलोनी के पास माता शीलता का करीब 65 साल पुराना मंदिर है।

-क्षेत्रीय लोग इस मंदिर को केसरी माता के नाम से जानते हैं।

-पुराने समय से ही यहां पर चेचक के रोगियों का नि:शुल्क इलाज किया जाता है।

-पांच से सात दिन होम्योपैथिक दवाई खाने के बाद चेचक का रोग स्वयं ही ठीक हो जाता है।

-रोगियों को सुबह सात से दोपहर 12 बजे और शाम को चार बजे से रात्रि आठ बजे तक देखा जाता है।

keshri-mata-temple

हिंदुओं के साथ आते हैं मुस्लिम

-यहां पर हिंदू , मुस्लिम, सिख, इसाई आदि समुदायों के लोग उपचार कराने के लिए आते हैं।

-मंदिर में उपचार कराने के लिए रोजाना 250 से 300 मरीजों की भीड़ उमड़ती है।

-सुबह से ही दवाई लेने के लिए मरीजों की लंबी कतार लग जाती है।

-मंदिर में चेचक के अलावा पेट रोग, माप, बुखार आदि तमाम बीमारियों का इलाज भी किया जाता है।

temple

बच्चों से लेकर बुजुर्ग तक कराते हैं इलाज

केसरी माता मंदिर की खासियत है कि यहां पर बच्चों से लेकर बुजुर्ग तक इलाज कराने पहुंचते हैं। सबसे पहले मरीज को माता शीतला के सामने मोर के पंखों से झाड़ा जाता है। इसके बाद चेचक और पेट के रोगियों को दवाई दी जाती है। अगर मरीज की माप हट गई है तो उसे भी चंद मिनट में ठीक कर दिया जाता है।

तीन माह रहती है सबसे ज्यादा भीड़

मंदिर के महंत भारत नारायण गिरि महाराज ने कहा कि मार्च, अप्रैल और मई में सबसे ज्यादा भीड़ रहती है। इन महीनों में बच्चे सबसे ज्यादा बीमार होते हैं और उन पर चेचक का प्रकोप हेाता है, इसलिए सुबह से ही लोगों की लंबी कतारे लग जाती है। ज्यादातर कामकाजी लोग दिन निकलने से पहले ही मंदिर में पहुंच जाते हैं।

keshari-people

होली पर सात दिन बाद लगता है मेला

पिछले काफी अर्से से होलिका दहन के सातवें दिन माता शीतला का मेला लगता है। इसके बाद माता का भंडारा भी कराया जाता है। यहां पर दूर दराज से लोग पूजा अर्चना करने आते हैं। लोग इस पूजा को बसौडा के नाम से जानते हैं। महंत ने कहा कि यहां पर साल भर में एक दिवसीय मेला व भंडारा होता है।

मंदिर में स्थापित हैं दर्जनों देवी-देवताओं की प्रतिमा

मंदिर प्रांगण में शीतला माता के अलावा मां काली,हनुमान, भगवान शंकर आदि की मूर्तियां बनी हुई हैं। इसके अलावा महंत की समाधि भी बनी हुई है। श्रद्धालु रोजाना पूजा अर्चना करने के लिए आते हैं। इसके अलावा ऐसे रोगी भी मंदिर में सिर झुकाने आते हैं,जिन्हें किसी डॉक्टर की दवाई से फायदा नहीं होता है।

temple2

महानिर्वाणी अखाड़े से ताल्लुक रखते हैं महंत

महंत भरत नारायण गिरि ने कहा कि एक बार बचपन में वे मंदिर में आए थे, जहां पर वर्ष 1962 में उनका संपर्क मंदिर के महानिर्वाणी अखाड़े के महंत स्वामी गिरीश गिरि से हुआ। इसके बाद वे यहीं रहने लगे और पूजा अर्चना की सारी विधियां सीख ली। वर्ष 2010 में उनका निधन हो गया। इसके बाद 17 दिसम्बर 2010 से वह इस गद्दी पर बैठे हैं। उनके परिवार के लोग भी लोगों की सेवा में लगे हुए हैं।

Admin

Admin

Next Story