Top

ये हैं भारत के वो TOP-5 गांव, जो अपनी कला के लिए हैं प्रसिद्ध

Charu Khare

Charu KhareBy Charu Khare

Published on 17 July 2018 11:45 AM GMT

ये हैं भारत के वो TOP-5 गांव, जो अपनी कला के लिए हैं प्रसिद्ध
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

लखनऊ: हमारा भारत देश कई तरह के रीति-रिवाजों का देश हैं। ये देश तरह- तरह की भाषाओं, कलाओं और संस्कृति के लिए दुनियाभर में जाना जाता है। इस देश की खासियत ये है कि यहां पर हर धर्म के लोग रहते हैं जिनके अपने-अपने रीति-रिवाज मनाने के अलग ही अंदाज हैं। साथ ही इस देश कि सभी जगह अपनीं अपनी कला के लिए विख्यात हैं। तो आज हम आपको भारत के उन शहरोँ के बारे में बताएंगे जो की अपनी कला के लिए प्रसिद्ध हैं। आप भी एक बार जरुर जाइये और देखियें इन जगहों की कलात्मक खूबसूरती को।

Image result for रघुराजपुर village

रघुराज पुर

जैसा की आप जानते हैं कि भारत को तरह- तरह की कला के लिए जाना जाता हैं। रघुराज पुर नाम का यह गांव उडीसा में स्थित है जो 2000 में इसे हैरिटेज गांव की लिस्ट में शामिल किया गया है। यहां के लोग ट्रबाइल पेंटिंग के बहुत शौकिन हैं और पेपर मैच ट्वॉय,वुडन ट्वॉय बनाकर अपनी जिंदगी गुजार रहे हैं। इस गांव के बारे में कहा जाता है कि यहां का हर शख्स कलाकार है। यहां पर लोग घूमने के लिए भी आते हैं।

Related image

तिलौनिया

भारत देश में ग़रीबी होने के वजह से कई ऐसे गावं हैं जहां बिजली की कोई सुविधा ही नही हैं वहीं राजस्थान के अजमेर शहर में स्थित यह पहला गांव है। जहां बिजली कि समस्या होने के कारण हर घर में सोलर सिस्टम हैं इस गावं को सोलर गावं के नाम से जाना जाता हैं। यहां पर हर घर की छत पर सोलर सिस्टम चमकता हुआ दिखाई देता है। इस गांव का हर शख्स सोलर सिस्टम को इंस्टाल करना जानता है।

Image result for रघुराजपुर village

मट्टूर

जैसा कि आप जानते हैं हमारें देश में पुरानें ज़माने में लोग एक दूसरें से संस्कृत भाषा में बात करते थे। लेकिन बदलते हुए ज़माने को देखतें हुए लोग हिंदी भाषा को अपनी राष्ट्रभाषा स्वीकार कर लिया। लेकिन आज भी ऐसा गावं हैं जहां लोगो ने इस सभ्यता को बनाये रखा हैं। बता दें, बैगलुरू का मट्टूर गांव जहां आज भी भारत की महान संभ्यता को संभाले हुए है। गांव का हर शख्स संस्कृत भाषा बोलता है। इसी कारण इस गांव को संस्कृत गांव भी कहा जाता है। यहां पर संस्कृत सीखाने के लिए बच्चों को पाठशाला में 5 साल का प्रशिक्षण दिया जाता है।

Image result for पनामिक गांव  village

पनामिक गांव

हमारें देश में कई ऐसी जगह है जो कि प्रसिद्ध नदियों और झरनों के लिए भी जाने जाते हैं और नए- नए अजुबें भी देखनें को मिलते हैं। वहीं बता दें, सियाचिन ग्लेशियर के पास बसा पनामिक गांव यहां बहती गर्म पानी की धारा के कारण मशहूर है। उस पानी में डुबकी लगाने के लिए दूर-दूर से लोग यहां आते हैं। इस गांव में घूमने का बैस्ट समय जून से सितंबर के बीच है।

Image result for कोटा स्टोन village

कोटा स्टोन

राजस्थान के कई शहर ऐसे हैं जो कि अपनी कलाओं के लिए भी जाना जाता हैं। बता दें, राजस्थान के दक्षिणी छोर पर बसा कोटा गावं अपने कोटा स्टोन के लिए सबसे ज्यादा जाना जाता है। इसे मकानों के फर्श के लिए इस्तेमाल किया जाता है। यह खालिस सोने में उत्कीर्ण हस्तशिल्प के लिए भी लोकप्रिय है। यहां की कोटा-डोरिया की साडिय़ां काफी मशहूर हैं, जो कपड़े के महीन ताने-बाने से बनी होती हैं। कोटा के नजदीक बूंदी में सड़कों पर मिनिएचर पेंटिंग बिकती हुई मिल जाएंगी। अगर आप घूमनें के शौक़ीन हैं तो इन जगहों पर जरुर जाये और देखें ये अद्भुत नज़ारे।

Charu Khare

Charu Khare

Next Story