Top

इंडोनेशिया का ये समाज क्यों रहता है मरे हुए लोगों के साथ?

Newstrack

NewstrackBy Newstrack

Published on 28 Jun 2016 12:18 PM GMT

इंडोनेशिया का ये समाज क्यों रहता है मरे हुए लोगों के साथ?
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

[nextpage title="next" ]

indonesia, village,toraja सौजन्य डेली मेल

इंडोनेशिया: प्रकृति का नियम है कि मरने के बाद इंसान को या तो जलाया जाता है या दफना दिया जाता है। परिजन उसका अंतिम संस्कार करते हैं, लेकिन क्या आपने कभी किसी को मरे हुए लोगों के साथ रहते देखा है।

आगे की स्लाइड्स में पढ़िए कैसे रहते मरे लोगों के साथ

[/nextpage]

[nextpage title="next" ]

indonesia, village,toraja सौ.डेली मेल

मरने के बाद नहीं छोड़ते साथ

इंडोनेशिया में एक समाज है जो कि मौत के बाद भी उस इंसान को अपने साथ रखता हैं। इतना ही नहीं उसके साथ जिंदा इंसानों की तरह ट्रीट करता है और खाना खिलाते हैं।दरअसल यहां के टोराजा संप्रदाय के लोग मौत के बाद भी जिंदगी मानते हैं। उनके लिए मरे हुए लोग भी जिंदा ही है। वे मरे हुए लोगों को कब्र से निकालकर उनको खाना खिलाते हैं और उनके साथ समय बिताते हैं।

आगे की स्लाइड्स में पढ़िए कैसे रहते मरे लोगों के साथ

[/nextpage]

[nextpage title="next" ]

indonesia, village,toraja सौ. डेली मेल

मौत के बाद जिंदगी

उनका मानना है कि मौत के बाद जिंदगी का अगला चरण शुरू होता है। इस परंपरा को यहां की लगभग आधी मिलियन आबादी मानती है। इस संप्रदाय में मरे हुए लोगों की अंतिम क्रिया भी अलग तरह से होती है।

आगे की स्लाइड्स में पढ़िए कैसे रहते मरे लोगों के साथ

[/nextpage]

[nextpage title="next" ]

indonesia, village,toraja सौ. डेली मेल

अंतिम संस्कार में भैंस की बली

अंतिम क्रिया में बाहर से घूमने आए लोगों को फोटो लेने दी जाती है और उन्हें चाय-नाश्ता कराया जाता है। इसमें मृत व्यक्ति को श्रद्धांजलि देने के लिए सम्मान के तौर पर भैंस की बली दी जाती है।

आगे की स्लाइड्स में पढ़िए कैसे रहते मरे लोगों के साथ

[/nextpage]

[nextpage title="next" ]

indonesia, village,toraja सौ. डेली मेल

पैतृक दुर्ग में रखते है मृत बॉडी

बली के बाद मृत शरीर को घर ले जाया जाता है। इसके बाद उसे अनाज घर और बाद में शमशान ले जाते हैं। वहां पर अंतिम क्रिया की जाती है। जिसमें मृत को पैतृक दुर्ग में खाने के सामान और सिगरेट के साथ रखते हैं। इसके बाद मृत शरीर को कई सालों तक सुरक्षित रखने के लिए मृतक के शरीर को फॉर्मल्डहाइड और पानी के घोल से सुरक्षित रखते हैं।

[/nextpage]

Newstrack

Newstrack

Next Story