Top

हैरतअंगेज ! यहाँ तो गाय के पेट में बना दिया जाता है बड़ा छेद...

Rishi

RishiBy Rishi

Published on 9 April 2017 9:57 AM GMT

हैरतअंगेज ! यहाँ तो गाय के पेट में बना दिया जाता है बड़ा छेद...
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

वाशिंगटन : अमेरिका में आजकल गायों के साथ अजीबोगरीब एक्सपेरिमेंट किए जा रहे हैं। इसके लिए तर्क दिया जा रहा है, कि इससे गाय की उम्र बढ़ जाति है। दावा किया गया है कि वेटनरी रिसर्च से साबित हुआ है कि गाय के शरीर में बड़ा छेद कर देने से उसे कोई नुकसान नहीं बल्कि फायदा होता है। वहीँ कई इसका विरोध भी कर रहे हैं, उनके मुताबिक ये मांस और डेयरी उद्योग को लाभ देने के लिए की गयी कवायद है। इससे गाय को भला क्या फायदा।

ये भी देखें : छुट्टी के दिन होमगार्ड ऑफिस में लगी भीषण आग, जलकर रख हुए सरकारी डाक्यूमेंट्स

वेटनरी एक्सपर्ट्स के मुताबिक गाय के शरीर में छेद करने से उसके शरीर के अंदर की बिमारियों का निरीक्षण आसानी से किया जा सकता है। खाना पच रहा है या नहीं, बैक्टीरिया कैसे पनप रहे हैं और सबसे बड़ी बात ये कि उसे बीमार होने पर सीधे दवा दी जा सकती है।

इस छेद को फिस्टुला कहा जाता है, और जहाँ इसे बनाया जाता है उसे रूमेन कहा जाता है। इस सर्जरी में समय तो कम लगता है लेकिन 45 दिन लग जाते हैं गाय को सहज होने में। छेद करने के बाद एक प्लास्टिक रिंग से इसे बंद किया जाता है। इसमें एक ढक्कन होता है जिसे हटा कभी भी गाय के पेट में देखा जा सकता है।

Rishi

Rishi

आशीष शर्मा ऋषि वेब और न्यूज चैनल के मंझे हुए पत्रकार हैं। आशीष को 13 साल का अनुभव है। ऋषि ने टोटल टीवी से अपनी पत्रकारीय पारी की शुरुआत की। इसके बाद वे साधना टीवी, टीवी 100 जैसे टीवी संस्थानों में रहे। इसके बाद वे न्यूज़ पोर्टल पर्दाफाश, द न्यूज़ में स्टेट हेड के पद पर कार्यरत थे। निर्मल बाबा, राधे मां और गोपाल कांडा पर की गई इनकी स्टोरीज ने काफी चर्चा बटोरी। यूपी में बसपा सरकार के दौरान हुए पैकफेड, ओटी घोटाला को ब्रेक कर चुके हैं। अफ़्रीकी खूनी हीरों से जुडी बड़ी खबर भी आम आदमी के सामने लाए हैं। यूपी की जेलों में चलने वाले माफिया गिरोहों पर की गयी उनकी ख़बर को काफी सराहा गया। कापी एडिटिंग और रिपोर्टिंग में दक्ष ऋषि अपनी विशेष शैली के लिए जाने जाते हैं।

Next Story