×

तोरण लगा करते हैं मां लक्ष्मी को खुश तो फिर क्यों है इसे मारने की प्रथा

suman
Updated on: 13 July 2018 10:08 AM GMT
तोरण लगा करते हैं मां लक्ष्मी को खुश तो फिर क्यों है इसे मारने की प्रथा
X
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo

जयपुर:हिन्दू समाज में शादी में तोरण मारने की एक आवश्यक रस्म है। जो सदियों से चली आ रही है। लेकिन अधिकतर लोग नहीं जानते कि यह रस्म कैसे शुरू हुई। दंत कथानुसार कहा जाता है कि एक तोरण नामक राक्षस था जो शादी के समय दुल्हन के घर के द्वार पर तोते का रूप धारण कर बैठ जाता था तथा दूल्हा जब द्वार पर आता तो उसके शरीर में प्रवेश कर दुल्हन से स्वयं शादी रचाकर उसे परेशान करता था। एक बार एक राजकुमार जो विद्वान एवं बुद्धिमान था शादी करने जब दुल्हन के घर में प्रवेश कर रहा था अचानक उसकी नजर उस राक्षसी तोते पर पड़ी और उसने तुरंत तलवार से उसे मार गिराया व शादी संपन्न की। बताया जाता है कि तब से ही तोरण मारने की परंपरा शुरू हुई। ये प्रथाए, सभी को अपनी और आकर्षित करती है। इन्ही प्रथाओ में से एक है तोरण मारने की प्रथा, जो की शादी के समय दुल्हे को पूरी करनी होती है। जो की बहुत वर्षो से चली आ रही है। जिसके पीछे भी कोई न कोई कारण है।

प्राचीन कथा अनुसार, तोरण नाम का एक राक्षस था, जो शादी के समय दुल्हन के घर के द्वार पर तोते का रूप धारण कर बैठ जाता था।जब दूल्हा द्वार पर आता तो वह उसके शरीर में प्रवेश कर दुल्हन से स्वयं शादी रचाकर उसे परेशान करता था। एक बार एक साहसी और चतुर राजकुमार की शादी के वक्त जब दुल्हन के घर में प्रवेश कर रहा था अचानक उसकी नजर उस राक्षसी तोते पर पड़ी और उसने तुरंत तलवार से उसे मार गिराया और शादी संपन्न की। बताया जाता है कि उसी दिन से ही तोरण मारने की परंपरा शुरू हुई।

मेहमान के साथ नहीं हुई ‘बंटवारे’ पर बात

महत्व घर में तोरण को लगाने का उद्देश है, धन की देवी माता लक्ष्मी को आकर्षित एवं प्रसन्न करना। विभिन्न क्षेत्रों के अनुसार, तोरण कई प्रकार के कपड़े, धातुओ एवं कई सजावटी विशेषताओं से भी बनायीं जा सकती है। अधिकांशतः तोरण के लिए आम के पत्ते (जिसमें विशाक्त हवाओ को रोकने की क्षमता है) गेंदे के फूल के साथ (जो की आस्था के लिए शुभ है) मिलाकर बनाये जाते है।कोई भी हरी पत्तियां गंदी हवाओं को शुद्ध कर स्वच्क्ष हवा अपने आस पास विसर्जित करती है।

OMG: इस तकिया की कीमत से उड़ेंगे होश, जानिए इसकी खासियत

हिंदुओं में तोरण का काफी महत्व है।घर के मुख्य द्वार को सुशोभित करने के अलावा, तोरण एक सुखद एवं अनुकूल स्वागत की भावना भी प्रस्तुत करता है।

घर के मुख्य द्वार पर तोरण लटकाने से घर में प्रवेश करने वाले हर व्यक्ति के साथ सकारात्मक ऊर्जा घर में आती है।जिससे घर में सुख व समृद्धि बढ़ती है।

suman

suman

Next Story