×

पहली बार 1000 विधवाओं की जिंदगी हुई रंगीन, फिर जगी जीने की चाह

Admin

AdminBy Admin

Published on 21 March 2016 9:05 AM GMT

पहली बार 1000 विधवाओं की जिंदगी हुई रंगीन, फिर जगी जीने की चाह
X
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo

वृंदावन: वृंदावन में ऐसा पहली बार हुआ वहां की विधवाओं ने रंगों ले होली खेली। ये पहल इनके लिए काम करने वाली संस्था सुलभ इंटरनेशनल ने की है।संस्था का मानना है कि विधवा होना एक घटना है, जिसका सामाजिक दाग से कोई सरोकार नहीं है।

ये भी पढ़ें... 237 साल बाद होली पर दुर्लभ संयोग, लाएं होलिका की राख, बढ़ेगा सौभाग्य

djkdklo

अपनों के जाने का गम ताउम्र रहता है, लेकिन किसी के जानें से जीवन बदरंग नहीं होता। बस साथ छुटता है। खुश रहने का अधिकार तो हर किसी को है। कुछ ऐसा ही साबित किया यहां की विधवाओं ने। उन्होंने होली खेलकर कहां कि हमने जो खोया उसे कोई लौटा नहीं सकता, लेकिन हमसे खुश रहने का हक भी किसी को नहीं छिनना चाहिए।

vidhva

कुप्रथा को रोकने की कोशिश

ठाकुर गोपीनाथ मंदिर में सोमवार (21मार्च) को मंदिर प्रागंण में विधवाओं ने होली खेली। यहां देश के हर कोने और वाराणसी से भी विधवाएं आई थी। करीबन 1000 की तदाद में विधवाओं ने होली खेली। कार्यक्रम में 1200 किलोग्राम गुलाल, 1500 किलोग्राम से अधिक गुलाब और गेंदे के फूलों की पंखुड़ियों का इस्तेमाल किया गया। सुलभ इंटरनेशनल के संस्थापक और सामाजिक सुधारक डॉ. विंदेश्वर पाठक ने कहा-कि विधवाओं को होली खेलने से रोकने वाले समाज की कुप्रथा को रोकने की ये पहली कोशिश है। जल्द ही समाज पर भी इसे स्वीकार करेगा।

ये भी पढ़ें... होली पर होते हैं अजीबोगरीब टोटके, बचने के लिए सफेद खाने से रहें दूर

jkf

समाज में है बंदिश

आज भी विधवाओं को समाज में शुभ अवसर पर दूर रखा जाता है। उनकी बदरंग हुई जिंदगी में दोबारा रंग भरने को पाप माना जाता है। संस्था का मानना है कि इस पहल से उम्मीद जगी है कि ये होली न सिर्फ वृंदावन और वाराणसी की विधवाओं के जीवन में नए रंग भरेगी, बल्कि समाज के सोच को बदले की कोशिश करेगी।

Admin

Admin

Next Story