Top

नहीं रही दुनिया की सबसे बूढ़ी महिला, जानिए क्या था लंबी उम्र का राज

shalini

shaliniBy shalini

Published on 13 May 2016 9:17 AM GMT

नहीं रही दुनिया की सबसे बूढ़ी महिला, जानिए क्या था लंबी उम्र का राज
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

न्यूयॉर्क: क्‍या आपने कभी सोचा है कि आप 116 साल जी सकते हैं। ज्‍यादा दिनों तक जिंदा रहने की चाह भला किसमें नहीं होती है। भले ही आपको यह हैरान कर देने वाली बात लगे। लेकिन आपको जानकर अजीब लगेगा कि न्‍यूयॉर्क के ब्रुकलिन में रहने वाली एक महिला ने पूरे 116 साल की जिंदगी को जिया है। इस महिला की जिंदगी के 117 साल पूरे होने में कुछ ही महीने बाकी थे कि इससे पहले ही उसकी आंखें बंद हो गई।

इसके बावजूद उसने जिंदगी के उन पलों को जिया, जिसे जीने का हक भगवान हर किसी को नहीं देता है। जोंस की जिंदगी उन लोगों में जीने का शौक भी जगाती है, जो कहते हैं कि आजकल फॉस्‍ट फूड के जमाने में ज्‍यादा दिन जिंदा नहीं रहा जा सकता है। अगर वह बीमार नहीं होती, तो शायद कुछ और लम्‍हों को जी सकती थी, लेकिन अब महिला का ब्रुकलिन में निधन हो गया है। लॉस एंजिलिस के जरा विज्ञान अनुसंधान समूह के वरिष्‍ठ सलाहकार ने बताया कि शुक्रवार को सबसे ज्‍यादा दिनों तक जीवित रहने वाली महिला मुशत्‍त जोंस अब इस दुनिया में नहीं रही। उन्‍होंने कहा कि वे ब्रुकलिन में एक सार्वजनिक आवास पर करीब तीन दशकों से रह रही थी। वे पिछले दस दिनों से बीमार चल रही थी।

कौन थी जोंस

जोंस मांटगोमरी के एक छोटे से शहर अलबामा में 1899 में पैदा हुई थी।

-वह अपने 11 भाई बहनों में से एक थी और उन्‍होंने अश्‍वेत बच्चियों के स्‍पेशल स्‍कूल में पढ़ाई की।

-जब जोंस ने 1922 में हाई स्‍कूल पास किया, तो परिवार की मदद के लिए फुलटाइम खेतों में काम करना शुरू किया।

-नैनी बनने के लिए इन्‍होंने एक साल बाद यह काम छोड़ दिया।

-उनके भतीजे लोइस जज के 2015 में एक इंटरव्‍यू के अनुसार अपनी चाची जोंस के बारे में बताया था कि उन्‍हें बच्‍चों से कॉफी लगाव था।

क्‍या है उनके परिवार के सदस्यों का कहना

-उनके परिवार के सदस्‍यों ने बताया कि पिछले साल जोंस ने अपनी लंबी उम्र काराज बयान किया था।

-वे कहती थी कि उनकी लंबी जिंदगी का पूरा श्रेय उनके परिवार की उदारता और प्‍यार को जाता है।

-जज का मानना है कि जोंस हमेशा खुद से उठाई गए ताजा फल और सब्जियां खाती थी।

अफ्रीकी अमेरिकी महिलाओं की स्थिति सुधार में किया काम

-न्‍यूयॉर्क जाने से पहले जोंस ने अपने हाई स्‍कूल दोस्‍तों के साथ एक ग्रुप में काम किया।

-यह ग्रुप अफ्रीकी अमेरिकन महिलाओं की शिक्षा के लिए फंड जुटाने का काम करता था।

-इस संबंध में वह 106 साल की उम्र में भी सरकारी आवास निर्माण के लिए कार्यरत रही।

गिनीज वर्ल्ड रिकॉर्ड्स में आ चुका था नाम

-पिछले साल 117 साल की उम्र में मरने वाले व्यक्ति मिसाओ ओकावा के मरने के बाद जोंस को दुनिया में सबसे ज्‍यादा उम्रदराज महिला घोषित कर दिया गया था।

-यंग ने कहा कि जोंस इटली में वर्बेनिया की सबसे ज्‍यादा दिनों तक जीवित रहने वाली एम्‍मा मोरानो से कुछ महीने ही छोटी हैं।

shalini

shalini

Next Story