1200 जमाती फरार: खतरा बढ़ने के आसार, जारी हुआ अलर्ट

दिल्ली पुलिस सहित देश की तमाम सुरक्षा एजेंसियों की कड़ी कोशिशों के बाद भी तब्लीगी मरकज में आए 1200 जमातियों का अभी तक कुछ पता नहीं चल पाया है।

नई दिल्ली। देशभर में कोरोना वायरस को तेजी से फैलाने वाले निजामु्द्दीन स्थित तब्लीगी मरकज केस में एक और चौंका देने वाला खुलासा हुआ है। दिल्ली पुलिस सहित देश की तमाम सुरक्षा एजेंसियों की कड़ी कोशिशों के बाद भी तब्लीगी मरकज में आए 1200 जमातियों का अभी तक कुछ पता नहीं चल पाया है। अब इन जमातियों में ये भारतीय हैं या विदेशों के रहने वाले हैं, इसकी जांच की जा रही है। फरार जमातियों का रिकार्ड ढूंढ निकालने के लिए अपराध शाखा की टीम ने बृहस्पतिवार को यूपी के शामली जिले के कांधला स्थित मौलाना मोहम्मद साद के फार्म हाउस में छापेमारी भी की।

ये भी पढ़ें…मलेरिया की दवा ‘हाइड्रॉक्सीक्लोरोक्वीन’ नहीं कर रही काम, रिपोर्ट में हुआ खुलासा

4000 जमाती की मरकज के रजिस्टर में एंट्री

वहीं अपराध शाखा के एक आला पुलिस अधिकारी ने बताया कि मरकज में हुए जलसे में शामिल होने के लिए 11 से 13 मार्च तक करीब 4000 जमाती आए थे। 3 दिनों में मरकज में आए 4000 जमाती की मरकज के रजिस्टर में एंट्री है।

वहीं इनमें से 1800 जमाती दिल्ली सहित कई तमाम राज्यों में मिल गए हैं, लेकिन उसके बाद भी 1200 जमातियों का अभी तक पता नहीं चल सका है। इन 1200 जमातियों का रिकार्ड ढूंढ निकालने के लिए एक टीम मौलाना साद के फार्म हाउस में गई थी।

ये भी पढ़ें…सहारनपुर में एक दिन में मिले 12 केस, यूपी में संक्रमितों आंकड़ा पहुंचा 1553

अन्य जरूरी कागजात ढूंढ निकाले हैं

इसके साथ ही उत्तर प्रदेश में मौलाना साद व मरकज के नाम से कई बैंक खाते हैं, जिनकी जानकारी निकाल ली गई है। पुलिस टीम ने मौलाना साद के फार्म हाउस से कुछ लैपटॉप, पैन ड्राइव व अन्य जरूरी कागजात ढूंढ निकाले हैं। लैपटॉप व पैन ड्राइव को फोरेंसिक जांच के लिए भेजा जाएगा।

वहीं पुलिस को बैंक खातों से संबंधित कागजात भी मिले हैं। अपराध शाखा के पुलिस अधिकारियों के अनुसार, साद का अभी तक कोरोना टेस्ट नहीं हुआ है। पुलिस ने टेस्ट कराने के लिए कहा है। हालांकि साद टेस्ट कराने के लिए तैयार नहीं हो रहा है। और पुलिस के सामने भी नहीं आ रहा है। ऐसे में मौलाना साद डेली अपना एक ऑडियों क्लिप बना कर भेजता है।

ये भी पढ़ें…कैंसर पीड़ित की जान आफत में, लाॅकडाउन में भूख से लड़ रहा गरीब परिवार

न्यूजट्रैक के नए ऐप से खुद को रक्खें लेटेस्ट खबरों से अपडेटेड । हमारा ऐप एंड्राइड प्लेस्टोर से डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें - Newstrack App