सबसे ज्यादा जिलों के कलेक्टर रहे हैं IAS अमित गुप्ता, लिम्का बुक में नाम है दर्ज

नवागत मंडलायुक्त अमित गुप्ता का कहना है कि केंद्र और राज्य सरकार की जो भी योजनाएं हैं, उनका बेहतर तरीके से प्रचार-प्रसार कराया जाएगा। संपूर्ण समाधान दिवस में पहुंचने वाले प्रत्येक फरियादी को इंसाफ मिलेगा।

Published by Dharmendra kumar Published: January 23, 2021 | 11:47 pm
Modified: January 23, 2021 | 11:49 pm
Amit Gupta

सबसे ज्यादा जिलों के कलेक्टर रहे हैं IAS अमित गुप्ता, लिम्का बुक में नाम है दर्ज (फोटो: सोशल मीडिया)

आगरा: आगरा मंडल के नवागत मंडलायुक्त अमित गुप्ता ने पदभार संभालने के बाद शनिवार को पत्रकारों से रूबरू हुए। मीडिया कर्मियों के साथ हुई बैठक में उन्होंने मंडल की समस्याओं को जाना और विकास कार्यों पर की चर्चा।

मंडलायुक्त अमित कुमार ने कहा कि आगरा को स्मार्ट सिटी बनाना और पर्यटन से संबंधित समस्याओं का निस्तारण करना उनकी प्राथमिकता रहेगी। आगरा शहर के लिए मेट्रो और स्मार्ट सिटी प्रोजेक्ट अहम हैं।

उन्होंने कहा कि कोरोना संक्रमण काल के चलते पर्यटन उद्योग को झटका लगा है, जिसे वापस पटरी पर लाने का प्रयास किया जाएगा। अपने कार्यकाल के बारे में बताते हुए उन्होंने कहा कि वर्ष 2002 में वह उप जिलाधिकारी सदर और मुख्य विकास अधिकारी रह चुके हैं। मंडलायुक्त ने बताया कि 13 जिलों में डीएम रह चुके हैं और सर्वाधिक जिलों में डीएम रहने के चलते उनका नाम लिम्का बुक में भी दर्ज है।

ये भी पढ़ें…जलनिकासी से मिलेगा निजातः 3 करोड़ 55 लाख में बाराबंकी में होगा बड़ा निर्माण

मेट्रो और स्मार्ट सिटी प्रोजेक्ट अहम: अमित गुप्ता

नवागत मंडलायुक्त अमित गुप्ता का कहना है कि केंद्र और राज्य सरकार की जो भी योजनाएं हैं, उनका बेहतर तरीके से प्रचार-प्रसार कराया जाएगा। संपूर्ण समाधान दिवस में पहुंचने वाले प्रत्येक फरियादी को इंसाफ मिलेगा। वहीं आगरा मंडल में निर्धारित अवधि के. भीतर सभी योजनाओं को पूर्ण कराने का प्रयास किया जाएगा। वह शनिवार कमिश्नरी सभागार में पत्रकारों से रूबरू थे।

ये भी पढ़ें…राम मंदिर के लिए सबसे बड़ा दान, इस बुजुर्ग शिक्षक ने सौंप दी जीवनभर की कमाई

अमित गुप्ता ने कहा कि आगरा के लिए मेट्रो प्रोजेक्ट और स्मार्ट सिटी अहम है। इन प्रोजेक्ट को निर्धारित अवधि के भीतर पूर्ण कराने का प्रयास होगा। अमित गुप्ता मूल रूप से ग्वालियर मध्य प्रदेश के रहने वाले हैं। वह वर्ष 2000 बैच के आईएएस अफसर हैं। आगरा से उनका गहरा नाता है।

ये भी पढ़ें…सीएम योगी का ड्रीम प्रोजेक्ट विंध्‍य कारिडोर, जानें विंध्यवासिनी मंदिर में होगा क्या खास

वर्ष 2002 में वह उप जिलाधिकारी सदर और मुख्य विकास अधिकारी रह चुके हैं। मंडलायुक्त ने बताया कि उनका नाम लिम्का बुक ऑफ रिकॉर्ड में दर्ज है। वह 13 जिलों में जिला अधिकारी रह चुके हैं। प्रदेश में सबसे अधिक जिलों में जिला अधिकारी रहने का रिकार्ड उन्हीं के नाम दर्ज हैं।

दोस्तों देश दुनिया की और खबरों को तेजी से जानने के लिए बनें रहें न्यूजट्रैक के साथ। हमें फेसबुक पर फॉलों करने के लिए @newstrack और ट्विटर पर फॉलो करने के लिए @newstrackmedia पर क्लिक करें।

न्यूजट्रैक के नए ऐप से खुद को रक्खें लेटेस्ट खबरों से अपडेटेड । हमारा ऐप एंड्राइड प्लेस्टोर से डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें - Newstrack App