×

बीजेपी के पार्टी सम्मेलन जैसे हो गई है यूपी में इन्वेस्टर्स समिट: अखिलेश यादव

समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव ने कहा है कि भाजपा की सरकार ने विकास के सभी रास्ते बंद कर दिए हैं। प्रदेश में इन्वेस्टर्स समिट भाजपा के पार्टी सम्मेलन जैसे हो गए हैं। बार-बार निवेशक सम्मेलन आयोजित होते हैं लेकिन उसके नतीजे निल बटे सन्नाटा हैं।

Dharmendra kumar

Dharmendra kumarBy Dharmendra kumar

Published on 28 July 2019 4:10 PM GMT

बीजेपी के पार्टी सम्मेलन जैसे हो गई है यूपी में इन्वेस्टर्स समिट: अखिलेश यादव
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo

लखनऊ: समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव ने कहा है कि भाजपा की सरकार ने विकास के सभी रास्ते बंद कर दिए हैं। प्रदेश में इन्वेस्टर्स समिट भाजपा के पार्टी सम्मेलन जैसे हो गए हैं। बार-बार निवेशक सम्मेलन आयोजित होते हैं, लेकिन उसके नतीजे निल बटे सन्नाटा हैं।

सपा मुखिया ने रविवार को राजधानी लखनऊ में हुई इन्वेस्टर्स समिट पर प्रतिक्रिया देते हुये कहा कि सबको मालूम है कि बगैर उत्तर प्रदेश की भागीदारी के राष्ट्रीय विकास को गति नहीं मिल सकती है लेकिन भाजपा सरकार के केन्द्र में पांच साल बिना किसी परिणाम के निकल गए और उत्तर प्रदेश में अढ़ाई वर्ष आते-आते भाजपा सरकार की हांफने लगी है। यूपी की तस्वीर धुंधली हो गई है।

यह भी पढ़ें…Ground Breaking2: यूपी को मिला तोहफा, देखें क्या-क्या है सीएम की झोली में

उन्होंने कहा कि हकीकत यह है कि भाजपा सरकार के कार्यकाल में बाहरी उद्यमियों के प्रदेश में पूंजी निवेश के लिए अनुकूल वातावरण ही नहीं बन पाया है। भाजपा सरकार के समय कानून व्यवस्था बुरी तरह बिगड़ी है। कोई दिन ऐसा नहीं जाता जब राज्य के किसी न किसी कोने से अपराध की कोई न कोई खबर न आती हो। राजधानी की तो और भी बुरी हालत है। यहां आए दिन व्यापारियों की लूट और हत्याएं होती रहती हैं।

यह भी पढ़ें…होगे बड़के अमीर! इधर छोटकी ने तो खरीद डाली पूरी बिल्डिंग, हिला दिया दुनिया को

अखिलेश ने कहा कि भाजपा की भोजन, चिंतन और विश्राम की पुरानी परम्परा को अपनाते हुए राज्य सरकार घोषणा, भूमि पूजन और अनुबंध का भ्रमजाल रचती रही है। पूर्व में जो अनुबंध हुए उनके कागजों का अता-पता नहीं है। सरकार का यह दावा कि वह अनुबंधों को जमीन पर उतारने जा रही है, दिल बहलाने का यह ख्याल भर है। केन्द्र सरकार अपने वादे पूरे पांच साल नहीं निभा पाई, राज्य सरकार के आधे दिन रह गए हैं। उसके पास तो कहने को अपनी एक योजना तक नहीं है, जो कुछ भी काम है सपा सरकार के समय के हैं।

यह भी पढ़ें…ग्राउंड ब्रेकिंग सेरेमनी में बोले अडानी, साथ जुड़ा है भारत-यूपी का विकास

सपा अध्यक्ष ने कहा कि केवल कानून व्यवस्था ही नहीं, भाजपा सरकार में अवस्थापना सुविधाएं भी नाकाफी है। सड़क, बिजली, पानी सभी का अभाव है। सपा सरकार में जो बुनियादी ढांचा खड़ा किया था उस विकास के ढांचे को ही भाजपा ने तहस-नहस कर दिया है। भाजपा सरकार की कुनीतियों के चलते उद्यमियों को आए दिन परेशानी उठानी पड़ती है। नौकरशाही उनकी योजनाओं में अड़गें लगाने से बाज नहीं आती है। मुख्यमंत्री का प्रशासन पर नियंत्रण नहीं। ऐसे में राज्य के भविष्य के सामने अंधेरा ही अंधेरा है।

Dharmendra kumar

Dharmendra kumar

Next Story