अलीगढ़ रेपकेस: मुस्लिमों पर बरपा गांव के लोगों का गुस्सा, हिन्दू साथी ने बचाई जान

हरियाणा के बल्लभगढ़ से एक मुस्लिम परिवार एक समारोह में शामिल होने के लिए वाहन से जा रहा था और उनके साथ उनकी पारिवारिक मित्र पूजा चौहान भी थीं।

अलीगढ़: उत्तर प्रदेश के अलीगढ़ में 2 साल की एक बच्ची का क्षत-विक्षत शव मिलने के बाद से माहौल बेहद तनावपूर्ण बना हुआ है। रिपोर्ट्स के मुताबिक, बच्ची की हत्या से उपजे तनाव के बीच एक हिंदू महिला ने एक मुस्लिम परिवार को भीड़ के गुस्से से बचा लिया।

पुलिस द्वारा दी गई जानकारी के मुताबिक, यह घटना अलीगढ़ से करीब 40 किलोमीटर दूर जट्टारी क्षेत्र की है। हरियाणा के बल्लभगढ़ से एक मुस्लिम परिवार एक समारोह में शामिल होने के लिए वाहन से जा रहा था और उनके साथ उनकी पारिवारिक मित्र पूजा चौहान भी थीं।

यह भी देखें… अलीगढ़ रेप-केस: टप्पल चलो आह्वान पर प्रशासन हाई अलर्ट, कस्बे की सीमाएं सील

लोगों का आक्रोश बरसा बुर्के पर

कार में यात्रा करने वाले शफी मोहम्मद अब्बासी ने बताया कि मोटरसाइकिल पर सवार कुछ लोगों ने लोहे की रॉड से उनके वाहन पर हमला किया। उन्होंने कहा, ‘अगर पूजा हमलावरों और हमारे बीच नहीं आती तो, उन लोगों ने हमें मार ही दिया होता।’ सिविल लाइन्स पुलिस थाना में दर्ज शिकायत के अनुसार वाहन में कुछ महिलाएं बुर्का पहने हुई थीं, जिससे भीड़ उनके पास आ गई।

अब्बासी के मुतबिक, पूजा ने बेहद गुस्से में दिख रहे हमलावरों से कहा,‘नन्ही बच्ची की हत्या से हम भी स्तब्ध हैं। आप अपना गुस्सा बेगुनाह लोगों पर क्यों उतार रहे हैं।’

यह भी देखें… अलीगढ़ रेप-कांड: पीड़ित बच्ची के परिजन ने दी खुदकुशी की धमकी, 4 आरोपी गिरफ्तार

हिन्दू महिला साथी ने बचाई जान

अब्बासी ने बताया कि पूजा की बात सुन कर हमलावरों में से एक शख्स थोड़ा नरम पड़ा और उसने कार की चाबी थमाते हुए कहा कि यहां से तुरंत निकल जाओ। कांग्रेस नेता हाजी जमीरूल्ला खान इस परिवार को पुलिस थाने ले गए और उन्होंने पूजा को रोल मॉडल बताया।

वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक आकाश कुलहरि ने कहा कि किसी को भी कानून अपने हाथ में लेने की इजाजत नहीं है। पुलिस ने कहा कि इस सिलसिले में मामला दर्ज कर लिया गया है।