×

नोएडा: तय समयसीमा में निर्माण कार्य पूरा नहीं करने पर भूखंड का आवंटन निरस्त

निर्धारित समयावधि में निर्माण कार्य पूरा नहीं करने व प्राधिकरण का बकाया नहीं चुकाने के एवज में मुख्य कार्यपालक अधिकारी ने एक ग्रुप हाउसिंग व एक संस्थागत भूखंड का आवंटन निरस्त कर दिया।

Aditya Mishra

Aditya MishraBy Aditya Mishra

Published on 8 Sep 2019 12:09 PM GMT

नोएडा: तय समयसीमा में निर्माण कार्य पूरा नहीं करने पर भूखंड का आवंटन निरस्त
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo

नोएडा: निर्धारित समयावधि में निर्माण कार्य पूरा नहीं करने व प्राधिकरण का बकाया नहीं चुकाने के एवज में मुख्य कार्यपालक अधिकारी ने एक ग्रुप हाउसिंग व एक संस्थागत भूखंड का आवंटन निरस्त कर दिया।

इन दोनों को बकाया जमा करने के लिए बार-बार नोटिस जारी किए गए। लेकिन न तो नोटिस का कोई सकारात्मक जवाब दिया गया और न ही बकाया जमा किया।

इस स्थिति में अब इनके खिलाफ आरसी जारी कर कार्यवाही की जाएगी। प्राधिकरण मुख्य कार्यपालक अधिकारी ने बताया कि ग्रुप हाउसिंग भूखंड संख्या जीएच-1ए अल्फा सेक्टर-107 में 40 वर्गमीटर के भूखंड का उप विभाजन 3 जनवरी 2011 को किया गया।

ये भी पढ़ें...प्रश्नपत्र में गंदा सवाल! मुस्लिम और दलित को लेकर अब मचा बवाल

यह प्लाट बेसलाईन इंफ्रा डलवपर्स प्रा. लि. के पक्ष में किया गया था। आवंटी ने 13 जनवरी 2011 को प्लाट की रजिस्य्री अपने पक्ष में कराई। धारा-1 के तहत आवंटी को 31 मार्च 2010 से 7 साल के अंदर 30 मार्च 2017 तक प्लाट पर निर्माण कार्य पूरा कर प्रमाणपत्र प्राप्त करना था।

यही नहीं प्लाट के एवज में किस्ते जमा करने के लिए आवंटी को बार -बार नोटिस जारी किया गया। लेकिन आवंटी ने प्राधिकरण की बकाया धनराशि 112.44 करोड़ जमा नहीं कराई न ही आवंटन की शर्तो का पालन करते हुए प्रमाण पत्र हासिल किया। ऐसे में प्राधिकरण ने जीएच-1ए (अल्फा) सेक्टर-107 का आवंटन निरस्त कर दिया गया है।

वहीं, भूखंड संख्या-08 सेक्टर-106 में 20 हजार वर्मगीटर का आवंटन 13 दिसंबर 2006 को फाइबर फिटनेस ट्रस्ट के पक्ष में ट्रेनिक सेंटर फिजिकल एजुकेशन के नाम पर किया गया था।

ये भी पढ़ें....अभी-अभी भूकंप का कहर! हिल गए भारत के कई राज्य, दहशत में लोग

12 साल बाद भी नहीं कराया जा सका निर्माण

18 जनवरी 2007 को भूखंड पर कब्जा दिया गया। लीज डीड की शर्तो के अनुसार आवंटी को तीन साल के अंदर यहां भवन निर्माण पूर्ण कर इकाई को कार्यशील घोषित किया जाना था। लेकिन 12 साल बाद भी निर्माण नहीं किया जा सका।

यही नहीं आवंटी पर 3.83 करोड़ रुपए का बकाया भी है। भूखंड करने के लिए आवंटी को 31 मार्च 2011, 1 अक्टूबर 2013, 24 दिसंबर 2014 , 24 जुलाई 2015 , 6 अक्टूबर 2015 , 28 अप्रैल 2017 , 30 अगस्त 2017 व 20 अगस्त 2019 को नोटिस जारी किया गया।

लेकिन कोई भी सकारात्मक जवाब नहीं मिलने पर प्राधिकरण ने सेक्टर-106 स्थित भूखंड संख्या-08 का आवंटन निरस्त कर दिया।

ये भी पढ़ें...आईएएस उमेश प्रताप सिंह ने शासन को पत्र लिखकर लगाई सुरक्षा की गुहार

Aditya Mishra

Aditya Mishra

Next Story