ज़िंदगी हर वक़्त बदलती रहती है, इसलिए हमें हमेशा खुश रहना चाहिए: बी. के. शिवानी

उन्होंने आगे कहा-‘ परिस्थिति जब मेरे अनुसार हो तब भी मैं खुश,विपरीत परिस्थिति में भी मैं खुश क्योंकि हम कितना भी प्लान कर लें, जीवन हमेशा वैसा नही होगा जैसा हम चाहते हैं। ज़िन्दगी हर वक़्त बदलती रहती है, इसलिए हमें हमेशा खुश रहना चाहिए।’

शाश्वत मिश्रा
लखनऊ: कौन हमेशा खुश रह सकता है? कौन कभी-कभी खुश रह सकता है? और हम सारे दिन किस तरह की सोच में डूबे रहते हैं?
इन सारे सवालों के जवाब राष्ट्रपति से पुरूस्कृत बी. के. शिवानी ने गोमती नगर के वरदान खंड स्थित सी.एम.एस. के ऑडिटोरियम में उपस्थित लोगों को मिला। जो पूरे शहर से हजारों की तादाद में उपस्थित हुए थे।

इस कार्यक्रम की शुरुआत न्याय एवं विधि मंत्री ब्रजेश पाठक, लखनऊ की महापौर संयुक्ता भाटिया, जस्टिस आलोक माथुर, सी.एम.एस. के संस्थापक जगदीश गांधी, एस. एल. वैधानी,बी. के. राधा और कई ब्रह्माकुमारी बहनों ने पुष्पगुच्छ देकर बी.के. शिवानी का स्वागत किया। वहीं बी.के. शिवानी ने संयुक्ता भाटिया को पुष्पगुच्छ और शॉल देकर सम्मान प्रस्तुत किया।

ये भी पढ़ें— कोर्ट ने आम चुनाव टालने की मांग ठुकरायी

इस मौके पर बी. के. राधा ने स्वागत समारोह में कहा- ‘समाज में लोगों के चेहरों पर मुस्कुराहट लाने का कार्य करने वाली ब्रह्मकुमारी शिव की वाणी को जनमानस तक पहुँचाने वाली, बिछड़े हुए पिता से जोड़ने का काम करने वाली, और वसुधैव कुटुम्बकम की भावना को आगे बढ़ाने वाली शिव की वाणी शिवानी का मैं स्वागत करती हूँ।’

जिसके पश्चात ब्रजेश पाठक, जगदीश गांधी, संयुक्ता भाटिया और बी.के. शिवानी सहित कई लोगों ने द्वीप प्रज्ज्वलित कर ओम शांति के जयकारे लगाए।

इस मौके पर मुंबई से आये हरीश गोयल एवं उनके साथियों ने सा रे गा मा पा की अलग अलग रागों को गाकर दर्शकों में जोश भर दिया। वहीं स्कूल के बच्चे प्रिशा, सुमति और सरिसा ने मंच पर होली स्पेशल ‘कन्हैया घर चलो आज खेलें होली’ और ‘आज बृज में होली रे रसिया’ जैसे गानों पर नाट्य प्रस्तुति देकर यहां पर बैठे हुए दर्शकों को मंत्रमुग्ध कर दिया।

ये भी पढ़ें— आचार संहिता के चलते राजधानी में सादगी से मनाया गया कांशीराम की जयंती

इस कार्यक्रम के दौरान बी. के. शिवानी ने कहा- ‘हमें आपस में प्यार बनाये रखना चाहिए,मेरे जीवन में सारा दिन कौन सी ऐसी बातें होती हैं, कौन सी ऐसी सिचुएशन आती है, जिससे हमारी ज़िन्दगी खराब हो जाती है, इन सारी बातों को दूरकर अपने जीवन को चेक करते हुए हमेशा खुश रहना चाहिए।’

उन्होंने आगे कहा-‘ परिस्थिति जब मेरे अनुसार हो तब भी मैं खुश,विपरीत परिस्थिति में भी मैं खुश क्योंकि हम कितना भी प्लान कर लें, जीवन हमेशा वैसा नही होगा जैसा हम चाहते हैं। ज़िन्दगी हर वक़्त बदलती रहती है, इसलिए हमें हमेशा खुश रहना चाहिए।’

इस मौके पर न्याय एवं विधि मंत्री ब्रजेश पाठक,लखनऊ की महापौर संयुक्ता भाटिया, जस्टिस आलोक माथुर, सी. एम. एस. के संस्थापक जगदीश गांधी, एस. एल. वैधानी, जितेंद्र कुमार, बीनू सिंह, नीता राणा और त्रिलोचन सिंह मौजूद रहे। तो कार्यक्रम का संचालन डॉ मनीष तुलसियानी ने किया।

ये भी पढ़ें— इन मांगों को लेकर PM से मिलने पहुंचा साधू, मिली निराशा तो कहा…