आखिर क्यों योगी आदित्यनाथ से मिले अमर सिंह और जया प्रदा

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से मुलाकात की तो प्रदेश की राजनीती एक बार फिर गरमा गई। कहा जाने लगा कि जयाप्रदा भले ही आजमगढ़ से चुनाव हार गई हो पर अमर सिंह और आज़म खान की राजनीतिक लड़ाई अभी ख़त्म नहीं हुई है।

लखनऊ: मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से मुलाकात की तो प्रदेश की राजनीती एक बार फिर गरमा गई। कहा जाने लगा कि जयाप्रदा भले ही आजमगढ़ से चुनाव हार गई हो पर अमर सिंह और आज़म खान की राजनीतिक लड़ाई अभी ख़त्म नहीं हुई है। मुख्यमंत्री से मुलाकात कर जब अमर सिंह बाहर निकले तो उन्होंने कहा कि योगी जी से मेरी निजी मुलाकात थी।

यह भी पढ़ें…जानिए लखनऊ में क्यों ऑटो-टैम्पो के 44 रूटों को बदलने की चल रही तैयारी

सीएम बनने से पहले के हमारे उनके सम्बन्ध हैं और मैं कामना करता हूँ कि योगी अनंतकाल तक सीएम बने रहें। जयाप्रदा के साथ सीएम से मिलकर निकले अमर सिंह ने बताया कि जौहर विश्व विद्यालय के कुलपति के रूप में आजम खां लाभ के पद पर हैं। लाभ के पद पर रहते हुए पहले विधायक और अब सांसद बनना नियम के विपरीत है जिसके सम्बन्ध में कोर्ट द्वारा एक नोटिस भी जारी हो चुकी है।

यह भी पढ़ें…बिगड़ती कानून व्यवस्था पर अखिलेश बोले : तानाशाही रवैये पर उतर आई है BJP सरकार

अब इस सम्बन्ध में जयाप्रदा की तरफ से लखनऊ हाईकोर्ट में कल एक मुकदमा दायर करने जा रहे हैं। जिसकी पैरवी वे खुद करेंगे। दायर मुकदमें में आजम खां की सदस्यता को खत्म करने और जनता के पैसे की बचत करते हुए दोबारा चुनाव न कराते हुए दूसरे नम्बर पर रही जयाप्रदा को सांसद बनाया जाय। इसके अलावा समाजवादी सरकार में जौहर विश्वविद्यालय के नाम पर एकत्रित की गई अकूत सम्पत्ति की भी जांच की जाय।