डीएम से सैनिक के बेटे ने कहा परिवार सहित इच्छा मृत्यु की दे दीजिए अनुमति, ये है बड़ी वजह

उत्तर प्रदेश के अमेठी में एक सैनिक के बेटे ने परिवार समेत इच्छा मृत्यु की अनुमति डीएम से मांगी है। सैनिक के बेटे ने पिता को मिले प्रशस्ति पत्र और मेडल वापस लेने की भी बात कही है। हालांकि इस मामले को डीएम ने संज्ञान में लेकर तत्काल प्रभाव से एसडीएम गौरीगंज को जांच कर रिपोर्ट तलब कर ली है।

प्रतीकात्मक फोटो

अमेठी: उत्तर प्रदेश के अमेठी में एक सैनिक के बेटे ने परिवार समेत इच्छा मृत्यु की अनुमति डीएम से मांगी है। सैनिक के बेटे ने पिता को मिले प्रशस्ति पत्र और मेडल वापस लेने की भी बात कही है। हालांकि इस मामले को डीएम ने संज्ञान में लेकर तत्काल प्रभाव से एसडीएम गौरीगंज को जांच कर रिपोर्ट तलब कर ली है।

ये भी देखें:कुत्ते से शादी करेगी 220 मर्दों डेट कर चुकी मॉडल, जाएगी हनीमून पर

जानकारी के अनुसार गौरीगंज कोतवाली क्षेत्र के गांव अहद निवासी बजरंग प्रसाद मिश्र सेना के जवान रहे। सालों पूर्व उनका देहांत हो गया। उनके पुत्र सदा तीर्थ के अनुसार 1971 में उनके पिता युद्ध लड़े थे। जिसके बाद 14 अक्टूबर 1972 में पट्टे पर खेती योग्य जमीन और प्रशस्ति पत्र और मेडल दिया गया। सालों बाद एसडीएम ने उक्त जमीन को तालाब की जमीन बताते हुए सैनिक के परिवार को चलता कर दिया। और सैनिक की मृत्यु के 48 साल बाद मुकदमा दर्ज किया के उन्होंने कूट रचित ढ़ंग से जमीन हथिया लिया था। जबकि सारे रिकार्ड परिवार के पास हैं।

ये भी देखें:यूपी : इस मंत्री की टिप्पणी से विधानसभा में हो गया हंगामा, जानें पूरा मामला

सदा तीर्थ ने बताया कि वाद के खिलाफ मैं कमीशनर के पास गया, उन्होंने कहा के जमीन के बदले जमीन दी जाए पट्टा सही है। बावजूद इसके जमीन नहीं दी गई। इस सम्बंध में हम डीएम से मिले हमने कहा या तो जमीन दी जाए या तो मेडल वापस ले लिया जाए। और हमें परिवार समेत इच्छा मृत्यु की इजाजत दे दें।