हरियाणा, महाराष्ट्र के विस चुनाव के साथ ही होंगे, यूपी के उपचुनाव

हरियाणा और महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव के साथ उत्तर प्रदेश के उपचुनाव को कराने की कोई सरकारी अधिसूचना तो जारी नहीं हुई है लेकिन निर्वाचन आयोग के सूत्रों के मुताबिक उत्तर प्रदेश की 13 सीटों पर उपचुनाव रिक्त होने के छह महीने के अंदर होना चाहिए।

लखनऊ: उत्तर प्रदेश के उपचुनाव हरियाणा और महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव के साथ ही होंगे। प्रदेश में विधानसभा की 13 सीटों पर उपचुनाव होने हैं। जिन सीटों पर उपचुनाव होने हैं उनमें से 11 सीटों के विधायक इस साल लोकसभा चुनाव में जीतकर सांसद बन चुके हैं। इसके अलावा एक सीट फागू चौहान के राज्यपाल बनने की वजह से तथा दूसरी सीट अशोक चंदेल को हाई कोर्ट से सजा सुनाए जाने के कारण रिक्त हुई है। झारखंड विधानसभा का कार्यकाल भले ही अगले साल 5 जनवरी को पूरा हो रहा है। परन्तु हरियाणा और महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव के साथ ही उसके भी चुनाव कराने की तैयारी पूरी कर ली गई है।

ये भी देखें : पाकिस्तान से बदला लेने वाली महिला, सभी को सीखना चाहिए इनकी बहादुरी से

उपचुनाव, सीट रिक्त होने के छह महीने के अंदर होना चाहिए

हरियाणा और महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव के साथ उत्तर प्रदेश के उपचुनाव को कराने की कोई सरकारी अधिसूचना तो जारी नहीं हुई है लेकिन निर्वाचन आयोग के सूत्रों के मुताबिक उत्तर प्रदेश की 13 सीटों पर उपचुनाव रिक्त होने के छह महीने के अंदर होना चाहिए। इस लिहाज से भी हरियाणा महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव की तिथियों के आसपास तक का समय उपचुनाव के लिए निर्वाचन आयोग को मिल जाता है।

उत्तर प्रदेश के लखनऊ कैंट, टूंडला, गोविंदनगर, प्रतापगढ़, गंगोह, मऊमानिकपुर, रामपुर, जैतपुर, इगलास, हमीरपुर, जलालपुर और बेल्हा सीट यहां के विधायकों के सांसद बन जाने की वजह से रिक्त हुई है। लखनऊ कैंट की विधायक रीता जोशी इलाहाबाद से सांसद बन गई हैं। टूंडला के विधायक एसपी सिंह बघेल आगरा से सांसद बन गए हैं। गोविंदनगर से विधायक सत्यदेव पचौरी कानपुर से सांसद बन गए हैं। ये तीनों विधायक योगी आदित्यनाथ सरकार में कैबिनेट स्तर के मंत्री थे।

ये भी देखें : राम मंदिर पर बड़ा फैसला: पुजारियों और कर्मचारियों में खुशी की लहर

इगलास के विधायक राजवीर सिंह दिलेर हाथरस का चुनाव जीत चुके हैं

प्रतापगढ़ से अपनादल के विधायक संगमलाल गुप्ता भाजपा के टिकट पर प्रतापगढ़ से ही सांसद बनने में कामयाब हो गए हैं। गंगोह के विधायक प्रदीपकुमार कैराना से सांसद चुने गए हैं। मऊमानिकपुर के विधायक आरके पटेल बांदा से विधायक बन गए हैं। जैतपुर के विधायक उपेंद्र कुमार बाराबंकी से सांसद निर्वाचित हुए हैं।

बेल्हा के विधायक अक्षयवर लाल गोंड भी सांसद बन गए हैं। इगलास के विधायक राजवीर सिंह दिलेर हाथरस का चुनाव जीत गए हैं। ये सभी विधायक भारतीय जनता पार्टी के हैं। पर इसी के साथ-साथ रामपुर के विधायक आजम खां सपा के टिकट पर व जलालपुर से विधायक रितेश पांडे अम्बेडकरनगर से सांसद चुन लिए गए हैं।

ये भी देखें : ऐसा है भूटान में पीएम मोदी का जलवा

पार्टी अध्यक्ष अमित शाह ने उत्तर प्रदेश इकाई को सभी सीटें जीतने के निर्देश दिये हैं। अभी हाल में भाजपा के कार्यकारी अध्यक्ष जेपी नड्डा ने इन उपचुनावों के बाबत प्रदेश के वरिष्ठ नेताओं के साथ बैठक भी की है। इन उपचुनावों को हरियाणा महाराष्ट्र व झारखंड के चुनाव के साथ होने पर भारतीय जनता पार्टी को बड़ी सफलता की उम्मीद भी है क्योंकि विधानसभा के चुनाव नरेंद्र मोदी और अमित शाह के नाम और काम को भुनाया जा सकेगा।

जबकि उपचुनाव में इन्हें भुनाए जाने की गुंजाइश थोड़ी कम हो जाती है।