तेज रफ्तार ट्रक ने महिला को कुचला, मौत से पसरा मातम

एक वृद्ध महिला टैंकर के पहिए में फंस कर काफी दूर तक घिसटती चली गई और जब उसे ट्रक के नीचे से निकाला गया तो वह क्षत-विक्षत अवस्था में भी जीवित थी।

औरैया: कहा जाता है कि मौत कोई न कोई बहाना लेकर जरूर आती है। मगर मरने वाले व्यक्ति को यह नहीं पता होता कि उसकी मौत कितनी दर्दनाक तरीके से और कैसे होगी। ऐसा ही एक मामला शनिवार की देर शाम जनपद औरैया की कोतवाली क्षेत्र में देखने को मिला। जिसमें एक वृद्ध महिला टैंकर के पहिए में फंस कर काफी दूर तक घिसटती चली गई और जब उसे ट्रक के नीचे से निकाला गया तो वह क्षत-विक्षत अवस्था में भी जीवित थी। मगर उपचार के दौरान उसने दम तोड़ दिया।

तेज रफ़्तार ट्रक की चपेट में आई महिला

सदर कोतवाली क्षेत्र में बरमूपुर गांव के पास फफूंद की तरफ से आ रहे तेज रफ्तार टैंकर ने एक वृद्ध महिला को अपनी चपेट में ले लिया। जिससे महिला पहियों के बीच फंसकर घिसटते हुए चली गयी। आसपास मौजूद लोगों ने यह देख शोर मचाते हुए टैंकर को रुकवाया और पुलिस को जानकारी दी।

ये भी पढ़ें-    अल्पसंख्यकों पर डोरे डालने में जुटीं ममता, चुनावी नजरिए से शुरू कीं विकास योजनाएं

मौके पर पहुंची पुलिस ने महिला को गंभीर हालत में एंबुलेंस से जिला अस्पताल में भर्ती कराया। जहां इलाज के दौरान महिला ने दम तोड़ दिया। कोतवाली क्षेत्र के मोहल्ला बनारसीदास निवासी वृद्ध महिला भूरी देवी (65) पत्नी स्व.देवी दत्त शनिवार की शाम फफूंद रोड पर पैदल जा रही थी। तभी फफूंद की तरफ से आ रहे एक तेज रफ्तार टैंकर ने उसे अपनी चपेट में ले लिया।

इलाज के दौरान महिला की मौत

ट्रक की चपेट में आने से महिला बुरी तरह से टैंकर के पहियों में फंस गई। यह देख आसपास मौजूद लोगों ने शोर शराबा करते हुए टैंकर को रुकवाया और किसी तरह से पहियों के बीच फंसी महिला को बाहर निकाला। साथ ही पुलिस को सूचना दी। सूचना मिलते ही मौके पर पहुंची पुलिस ने महिला को क्षति-विक्षत हालत में जिला अस्पताल में भर्ती कराया।

ये भी पढ़ें-    IRCTC ने भारतीय इतिहास से जूड़े पूछे ये सवाल, जानिए क्या हैं इनके जवाब

जहां इलाज के दौरान महिला की मौत हो गई। पुलिस ने टैंकर को कब्जे में लेकर कोतवाली पहुंचाया। साथ ही महिला के परिजनों को भी सूचना दे दी गई है। इस संबंध में कोतवाली पुलिस ने बताया कि वृद्ध महिला के शव को पोस्टमार्टम के लिए भेजा जा रहा है।

रिपोर्ट-  प्रवेश चतुर्वेदी