Top

औरेया में शिक्षकों का हल्लाबोल, शिक्षा सेवा अधिकरण विधेयक की प्रतियां जलाई

शिक्षा सेवा अधिकरण विधेयक के खिलाफ बड़ी संख्या में शिक्षकों ने विरोध जताते हुए सहार खंड शिक्षा अधिकारी कार्यालय पर नारेबाजी की।

Shivani Awasthi

Shivani AwasthiBy Shivani Awasthi

Published on 8 March 2021 5:35 PM GMT

औरेया में शिक्षकों का हल्लाबोल, शिक्षा सेवा अधिकरण विधेयक की प्रतियां जलाई
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

औरैया। उत्तर प्रदेश के औरेया जिले में सहार खंड शिक्षा अधिकारी कार्यालय पर सोमवार को प्राथमिक शिक्षक संघ के अध्यक्ष अमित पाल के नेतृत्व में पूरे ब्लॉक के आधा सैकड़ा से अधिक शिक्षकों ने पहुंचकर शिक्षा सेवा अधिकरण विधेयक की प्रतियों को जलाया।

पूरे ब्लॉक के कई शिक्षक पहुंचे सहार खंड शिक्षा अधिकारी कार्यालय

शिक्षा सेवा अधिकरण विधेयक के खिलाफ बड़ी संख्या में शिक्षकों ने विरोध जताते हुए सहार खंड शिक्षा अधिकारी कार्यालय पर नारेबाजी की। इसके साथ ही प्राथमिक शिक्षक संघ के अध्यक्ष अमित पाल ने इस विधेयक के दुष्परिणामों के बारे में बताया।

प्राथमिक शिक्षक संघ के अध्यक्ष के नेतृत्व में विरोध प्रदर्शन

उन्होने कहा कि उत्तर प्रदेश शिक्षा सेवा अधिकरण विधेयक मृत्यु का आज्ञा पत्र है। अभी तक शिक्षा विभाग के किसी शिक्षक विरोधी निर्णय आदेश के विरूद्ध अध्यापक सीधे उच्च न्यायालय में याचिका कर न्याय प्राप्त कर सकता था। लेकिन अब प्राथमिक, माध्यमिक और उच्च शिक्षा की सहायता प्राप्त संस्थाओं के शिक्षक एवं कर्मचारी विभागीय नियमों के विरुद्ध शिक्षा सेवा अधिकरण में वाद करेंगे। सरकार द्वारा नियुक्त अधिकारी निर्णय देंगे, जिनसे न्याय मिलने की संभावना क्षीण है।

शिक्षा सेवा अधिकरण विधेयक की जलाई प्रतियां

सेवा अधिकरण के निर्णय के विरूद्ध सिर्फ सर्वोच्च न्यायालय में ही वाद प्रस्तुत किया जा सकता है जो शिक्षको के लिए अत्यंत कष्टकारी होगा। इस सेवा अधिकरण से शीघ्र न्याय मिलने की संभावना शून्य है। ऐसी स्थिति में शिक्षकों की सेवा सुरक्षा खतरे में पड़ जाएगी।

ये भी पढ़ें- विमान में दे दनादन: टॉयलेट के लिए भिड़े पायलट और फ्लाइट अटेंडेंट, टूटे हाथ-दांत

इसके अलावा शिक्षकों ने कहा कि साथ ही साथ पुरानी पेंशन बहाली, शिक्षकों की गुप्त आख्या भेजने, कायाकल्प योजना के लिए शिक्षकों के उत्पीड़न, कार्यालय में विलम्बित पत्रावलियों के निस्तारण, नव नियुक्त शिक्षकों के वेतन एरियर सहित अन्य मुद्दों पर चर्चा की शिक्षा सेवा अधिकरण अधिनियम का पुरजोर विरोध करते हुए प्रतियों को फाड़ा और जलाया।

ये शिक्षक रहे मौजूद

इस मौके पर शिक्षक संतोष यादव, संजय तिवारी, विपिन यादव, शिशुपाल सिसौदिया, ब्रजभान राजपूत, दीपू यादव, राजनरायन, अनिल पाल, अरुण यादव, विश्वनाथ यादव, सुबोध, विनय कुमार, मानवेन्द्र सिंह, अमित, राकेश राजपूत, देवांशु, प्रवीण यादव सहित कई शिक्षक मौजूद रहे।

रिपोर्ट- प्रवेश चतुर्वेदी, औरेया

Shivani Awasthi

Shivani Awasthi

Next Story