भूमि पूजन की शुभ घड़ी शुरू: अयोध्या होगी सील, ऐसा है पल-पल का कार्यक्रम

आखिरकार अयोध्या में भव्य राम मंदिर निर्माण की वह शुभ घड़ी आ गई है जिसका देशवासियों को लंबे समय से इंतजार था।

अयोध्या: आखिरकार अयोध्या में भव्य राम मंदिर निर्माण की वह शुभ घड़ी आ गई है जिसका देशवासियों को लंबे समय से इंतजार था। अयोध्या में राम मंदिर निर्माण के लिए गणपति पूजा के बाद सोमवार से अनुष्ठान शुरू हो जाएगा। सोमवार शाम से ही अयोध्या में दीपोत्सव की भी तैयारी है। भूमि पूजन से पहले रामनगरी अयोध्या पूरी तरह राममय हो चुकी है। प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ सोमवार को अयोध्या में राम मंदिर के भूमि पूजन कार्यक्रम की तैयारियों का जायजा लेंगे।

ये भी पढ़ें:उत्तर प्रदेश: गाजियाबाद में डकैतों की गैंग से पुलिस की मुठभेड़, 6 गिरफ्तार

अयोध्या में अलौकिक नजारा

भूमि पूजन से पहले अयोध्या में अलौकिक नजारा दिख रहा है। मंदिरों में रंग रोगन से नई चमक पैदा हो गई है। अयोध्या की सड़कों और गलियों से लेकर छतों पर केसरिया पताकाएं गजब का एहसास करा रही हैं। भूमि पूजन के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के अयोध्या पहुंचने से पहले रामनगरी की दीवारों पर रामायण कालीन दृश्यों उकेरे गए हैं जिससे यहां का सौंदर्य कई गुना बढ़ गया है।

गणपति पूजा के बाद शुरू होगा अनुष्ठान

भूमि पूजन के संयोजक आचार्य इंद्र देव मिश्र ने बताया कि सोमवार से राम मंदिर निर्माण के लिए अनुष्ठान शुरू हो जाएगा। सोमवार को पहले दिन गणपति पूजा के बाद अनुष्ठान शुरू होगा। इसके बाद पंचांग पीठ पूजन किया जाएगा। इसके अगले दिन रामार्चा पूजा होगी। मुख्य कार्यक्रम 5 अगस्त को होगा और इसमें प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भी हिस्सा लेंगे।

प्रधानमंत्री के आगमन से पहले वेदी पूजन का काम संपन्न करा लिया जाएगा। पीएम मोदी दोपहर करीब 12 बजे श्रीरामजन्मभूमि के गर्भगृह पहुंचेंगे। वे संकल्प लेने के बाद शुभ मुहूर्त में 12 बजकर 15 मिनट व 15 सेकंड के बाद 32 सेकंड के भीतर राम मंदिर की पहली ईंट रखेंगे।

अयोध्या में आज से दीपोत्सव

सोमवार को अनुष्ठान शुरू होने के साथ ही दीपोत्सव की तैयारी भी की गई है। प्रशासन की अपील पर रामनगरी के खास 25 स्थानों को दीपों से जगमग करने की तैयारी है। राम मंदिर निर्माण की खुशी में शहर में लाखों दीये जलाए जाएंगे।

व्यापारी व समाजसेवी संगठनों ने फैजाबाद में भी सभी चौराहों और तिराहों पर दीपोत्सव की तैयारी की है। लाइटिंग से चौराहों को खूबसूरती से सजाया भी गया है। मंदिर निर्माण का अनुष्ठान शुरू होने के साथ ही आम लोग भी अपने घरों के बाहर दीए जलाकर खुशी जताएंगे।

चौरासी कोस में चलेंगे अनुष्ठान

राम मंदिर निर्माण के भूमि पूजन के आयोजन को ऐतिहासिक बनाने की तैयारी की गई है। श्री राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र के 84 कोस में सभी ऋषि मुनियों की तपस्थलियों पर दो दिनों तक भव्य आयोजन किया जाएगा। श्री राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र न्यास की ओर से 151 तीर्थ स्थलों को चिन्हित किया गया है।

इन स्थानों पर अनुष्ठान के साथ ही श्रीरामचरितमानस, दुर्गा सप्तशती और विष्णु सहस्रनाम का पाठ भी किया जाएगा। पीएम मोदी के 5 अगस्त को अयोध्या पहुंचने के साथ ही इन 151 स्थानों पर वैदिक मंत्रोच्चार के स्वर सुनाई देंगे।

पवित्र नदियों का जल व मिट्टी पहुंची अयोध्या

श्री रामजन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र के महासचिव चंपत राय का कहना है कि राम मंदिर के भूमि पूजन के लिए पूरे देश के लगभग 15 सौ से अधिक स्थानों से पवित्र व ऐतिहासिक स्थलों की मिट्टी पहुंची है। उन्होंने बताया कि दो हजार से अधिक स्थानों से देश की सबसे अधिक पवित्र नदियों व सैकड़ों कुंडों का जल देश के कोने- कोने से अयोध्या पहुंचा है।

उन्होंने बताया कि जिन नदियों का जल अयोध्या पहुंचा है उनमें प्रमुख रूप से गंगा, यमुना, नर्मदा, कृष्णा, कावेरी, गोदावरी, ब्रह्मपुत्र, सिंधु, झेलम, सतलज और रावी नदियां शामिल हैं।

कल सील हो जाएगी अयोध्या

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के 5 अगस्त को अयोध्या आगमन से 24 घंटे पूर्व 4 अगस्त को अयोध्या सील कर दी जाएगी। इसके बाद न तो किसी वाहन या लोगों को अंदर आने दिया जाएगा और न ही कोई यहां से बाहर जा सकेगा। पांच अगस्त को हाईवे पर भी है रूट डायवर्जन किया जाएगा।

तीन एडीजी संभालेंगे सुरक्षा प्रबंध

मुख्य कार्यक्रम के दिन सुरक्षा प्रबंधों की निगरानी का काम तीन एडीजी संभालेंगे। सुरक्षा की दृष्टि से खुफिया एजेंसियों ने पूरे प्रदेश में अपना जाल फैला रखा है। सूत्रों का कहना है कि पश्चिमी यूपी से लेकर पूर्वांचल तक के जिलों में संदिग्धों पर नजर रखी जा रही है। इसके साथ ही पूरी अयोध्या पर ड्रोन कैमरे से भी नजर रखी जाएगी।

दुल्हन की तरह सजी रामनगरी

राम मंदिर निर्माण के भूमि पूजन के ऐतिहासिक मौके पर अयोध्या नगरी को दुल्हन की तरह सजाया गया है। राम नगरी को पीतांबरी व भगवा पताकाओं से भव्य तरीके से सजाया जा रहा है। साकेत कॉलेज से हनुमानगढ़ी और श्री राम जन्मभूमि तक दोनों तरफ घरों व दुकानों से लेकर धर्मस्थलों तक को पीले रंग में रंग दिया गया है। इसी मार्ग से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 5 अगस्त को भूमि पूजन के लिए श्री राम जन्मभूमि पहुंचेंगे। श्री राम जन्म भूमि के मुख्य कार्यक्रम स्थल को भव्य तरीके से सजाया गया है। सजावट के लिए थाईलैंड के ऑरकेट और जारबेला फूल मंगाए गए हैं।

ये भी पढ़ें:सुशांत केस: जांच के लिए मुंबई पहुंचे पटना के SP को जबरन किया क्वारनटीन

अयोध्या में पौने तीन घंटे रहेंगे पीएम

प्रधानमंत्री पांच तारीख को अयोध्या में करीब पौने 3 घंटे रुकेंगे। प्रधानमंत्री सुबह करीब 10:30 बजे लखनऊ एयरपोर्ट पर पहुंचेंगे और वहां से हेलीकॉप्टर के जरिए साकेत पीजी कॉलेज ग्राउंड पहुंचेंगे। वहां से पीएम मोदी सीधे हनुमानगढ़ी कजाएंगे। हनुमानगढ़ी से पीएम श्री रामजन्मभूमि पहुंचेंगे। यहां पर रामलला के दरबार में करीब 12 मिनट तक पूजन का कार्यक्रम चलेगा। पीएम मोदी गर्भगृह में भूमि पूजन करके राम मंदिर की नींव रखेंगे। प्रधानमंत्री का यहां 45 मिनट तक संबोधन का भी कार्यक्रम है। पीएम के दौरे की तैयारियों का जायजा लेने के लिए उत्तर प्रदेश का मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ सोमवार को अयोध्या पहुंचेंगे। वे मंदिर ट्रस्ट के पदाधिकारियों से भी मिलकर कार्यक्रम पर चर्चा करेंगे।

देश दुनिया की और खबरों को तेजी से जानने के लिए बनें रहें न्यूजट्रैक के साथ। हमें फेसबुक पर फॉलों करने के लिए @newstrack और ट्विटर पर फॉलो करने के लिए @newstrackmedia पर क्लिक करें।

न्यूजट्रैक के नए ऐप से खुद को रक्खें लेटेस्ट खबरों से अपडेटेड । हमारा ऐप एंड्राइड प्लेस्टोर से डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें - Newstrack App