राम मंदिर बनाने के लिए VHP ने बनाया बड़ा प्लान, ऐसे बनाएगी मंदिर

विश्व हिंदू परिषद (वीएचपी) ने प्रस्तावित राम मंदिर के निर्माण में योगदान करने का फैसला किया है। जिसके तहत उसने ये योजना तैयार की है कि, राम मंदिर का निर्माण क्राउड फंडिंग के जरिए की जाए।

लखनऊ: अयोध्या मामले पर सुप्रीम कोर्ट अपना फैसला चुना चुका है। फैसले के बाद अब राम मंदिर के निर्माण के लिए योजनाएं तैयार की जा रही हैं। वहीं विश्व हिंदू परिषद (वीएचपी) ने प्रस्तावित राम मंदिर के निर्माण में योगदान करने का फैसला किया है। जिसके तहत उसने ये योजना तैयार की है कि, राम मंदिर का निर्माण क्राउड फंडिंग के जरिए की जाए। इस योजना के साथ ही एक बार फिर से विश्व हिंदू परिषद ने कारसेवा का संकेत भी दिया है।

यह भी पढ़ें: केंद्र ने कहा-आर्टिकल 370 हटाना था जरूरी, अब 14 NOV को आएगा SC का फैसला

रामभक्तों से करेंगे संपर्क

इसको लेकर वीएचपी के राष्ट्रीय प्रवक्ता विनोद बंसल ने कहा कि, राम मंदिर के निर्माण में योगदान के लिए देशभर से राम भक्तों से संपर्क साधा जाएगा। अयोध्या मामला कई हिंदूओं की आस्था और भावनाओं से जुड़ा हुआ था और अब जब परियोजना शुरु हो गई है तो उन्हें अपना काम करना होगा, जिसमें कारसेवा भी शामिल है।

जल्द ही सामने आएगी औपचारिक योजना

 

उन्होंने बताया कि, औपचारिक योजना जल्द ही सबके सामने आएगी। साथ ही विश्व हिंदू परिषद पदाधिकारी ने कार सेवा के दूसरे चरण का संकेत देते हुए बताया कि, इसके अलावा वीएचपी का सुझाव है कि तीन महीने के अंदर जो ट्रस्ट गठित होने वाली है, उसको भक्तों की प्रतीकात्मक भागीदारी की सुविधा भी देनी चाहिए। इसके लिए एक हफ्ते के लिए देश के सभी 718 जिलों से भक्तों को यहां पर बुलाया जाएगा और उन लोगों से निर्माण कार्य में सहायता ली जाएगी।

यह भी पढ़ें: JNU में बढ़ी फीस पर बवाल: ‘ऐसे ही चलता रहा तो पढ़ाई छोड़ने को होंगे मजबूर’

योजना को लेकर कोई अस्पष्टता नहीं- आलोक कुमार

बता दें कि, कारसेवा, वीएचपी के नेतृत्व वाले मंदिर आंदोलन का एक अहम हिस्सा था। जिसके तहत लाखों की संख्या में कारसेवक 1990 और 1992 में अयोध्या आए थे। इसके दूसरे चरण में ही बाबरी मस्जिद का विध्वंस हुआ था। वीएचपी पदाधिकारियों ने दिल्ली में क्राउड फंडिंग योजना की पुष्टि की है। वीएचपी के कार्यकारी अध्यक्ष आलोक कुमार ने बताया कि, इस योजना को लेकर में कोई अस्पष्टता नहीं है कि, राम मंदिर के निर्माण के लिए दुनिया भर में सभी राम भक्तों से सीधे क्राउड फंडिंग की जाएगी। योगदान लेने की प्रक्रिया को जल्द ही शुरु किया जाएगा।

बता दें कि सुप्रीम कोर्ट ने विश्व हिंदू परिषद समर्थित रामजन्मभूमि न्यास को राम मंदिर निर्माण में भूमिका देने से मना कर दिया है। हालांकि सूत्रों के मुताबिक, सरकार न्यास प्रमुख महंत नृत्यगोपाल दास समेत वीएचपी के दूसरे सदस्यों को ट्रस्ट में शामिल करना चाहती है।

यह भी पढ़ें: गब्बर के लिए अमजद खान नहीं थे पहली पसंद, यहां जानिए उनसे जुड़ी कुछ खास बातें